Meri Didi Ki Garam Jawani – Part 8

This story is part of a series:

प्रिय पाठकों,

मेरी बड़ी बहन रिया एक और अपने भाई के साथ काम वासना में आनंद उठा रही थी, तो दूसरी और उसका मन कहीं और भी जा रहा था। रिया और दीपक एक हफ्ते अपने घर में ही मजे लेने वाले थे, चूंकि हम दोनों के पापा और मम्मी किसी काम से पैतृक गांव जाने वाले थे।

हम दोनों भाई और बहन अकेले अपने घर में रहने वाले थे। रिया घर में अकेली थी, जब मैं पापा और मम्मी को छोड़ने कानपुर सेंट्रल स्टेशन गया था, शाम की ट्रेन में दोनों को आरक्षित श्रेणी में बिठा कर मै घर की और चल दिया।

मै घर तकरीबन ०८:०० बजे पहुंचा, आज दिन में कालेज की क्लास और फिर स्टेशन जाकर दोनों को छोड़ना, काफी थकावट महसूस कर रहा था और घर घुसते ही मैं बोला।

मैं – रिया एक कप काफी जरा बना देना।

रिया मुस्कुराते हुए बोली – तुम भी ना दीपक, अभी काफी पीने का वक़्त है क्या? चलो जा फ्रेश हो कर आयो और खाना खा लो, उसके बाद फिर तुम सो जाना।

मै खुद किचेन में चला गया और कॉफी बनाने लग गया, तभी पीछे से रिया आकर मुझे दबोचने लग गयी और अपने मुलायम चूची को मेरे पीठ से रगड़ने लग गयी। तो मै सर पीछे घुमाकर उससे बोला।

मैं – इतनी थकावट में काफी की जगह तुम मुझे जकड़ रही हो?

रिया मुझे गर्दन चूमने लग गयी और बोली – सो क्या, इतनी जल्दी मेरे से मन भर गया तुम्हारा?

दीपक – नहीं रे, इससे भी कभी किसी का मन भरा है क्या?

तभी मैं काफी ले कर कमरे में आया, तो रिया एक कप काफी को दो कप में करके ले आयी। फिर हम दोनों डायनिंग हाल में बैठकर काफी पीने लग गये। रिया पीले रंग के नाइटी में मस्त दिख रही थी, तो मेरा ध्यान उसके बूब्स पर जा रहा था।

रिया – एक हफ्ते तक हम दोनों बिंदास मस्ती करेंगे, ना कोई देखने वाला और ना हि कोई रोकने वाला।

मै रिया के दाहिने बूब्स को पकड़ दबाने लग गया और मैं बोला – जरूर रिया, घर में साडी जरूरत की सामान मैं कल ही ला कर रख दूंगा, फिर उसके बाद हम दोनों को घर में ही मजा करना है।

हम दोनों का काफी पिना हो गया था, तो मै उसके स्तन को पुचकारते हुए मस्त होने लग गया। तभी रिया मेरी शर्ट के बटन को खोलने लग गयी, तो मै उसके करीब होकर उसकी गर्दन को चूमने लग गया।

मुझे उसके बालो से शैंपू की सुगंध आ रही थी। अब मै रिया को बाहों में लेकर चूमने लग गया, उसकी बाईं चूची मेरे सीने से लग रही थी, तो रिया मेरे से चिपकने को आतुर हो रही थी। मेरे होंठ उसके चेहरे और होंठ को चूम रहे थे, और उसके हाथ का एहसास अपने जींस पर पा रहा था।

रिया मेरे जींस को खोलने में लीन थी, तो मै उसके रसीली होंठो को चूसता हुआ। उसके बूब्स को सहला रहा था। दोनों निर्भीक होकर अपने ही घर में एक दूसरे से लिपटे हुए थे, तब तक मेरी शर्ट और जींस खुल चुकी थी।

रिया अपने होंठ को स्वतंत्र करके अपनी लम्बी सी जीभ मेरे मुंह में दे रही थी, और मै दीदी की जीभ को चूसता हुआ उसके हाथ का एहसास अपने लंड के उभार पर पा रहा था। दोनों की आंखे बंद थी, और सांसे आपस में टकरा रही थी।

फिर मैं ३-४ मिनट तक दीदी की जीभ को चूसता रहा, वो मेरे चेहरे को पीछे धकेल कर अपनी जीभ को मेरे मुंह से निकालने लग गयी। अब उसने मेरी छाती पर अपना सर रख दिया।

रिया – पता नहीं जब भी तुम्हे देखती हूं मन डोलने लगता है।

दीपक – कोई बात नहीं, एक बार अपने आशिक या बॉयफ्रेंड से चुद लोगी तो मेरे से ध्यान हट जाएगा, वैसे भी हम दोनों की ये प्रेम दास्तां कुछ साल की ही तो है।

रिया अपना चेहरा मेरी और करते हुए बोली – क्यों मेरी शादी होने के बाद तुम मुझे मजे नहीं दोगे?

दीपक – क्यों नहीं।

फिर रिया को मै अपने गोद में उठाकर बेडरूम में ले गया, और मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया। वो नाइटी में बहुत मस्त दिख रही थी, तो मै उसके करीब बैठकर उसके नाइटी को ऊपर की और करने लग गया।

तो रिया समझदार लड़की की तरह अपनी नाईटी को अपने बदन से निकालने लग गयी। उसके दोनों नग्न बूब्स खूबसूरत लग रहे थे, तो उसका सपाट पेट नाभि तक चमक रहा था। लेकिन चूत पेंटी में ही थी, और मै उसके बदन पर हाथ फेरने लग गया।

उसके गोलाई को मसलता हुआ, मैं उसके स्तन पर झुका। तो रिया अपना स्तन पकड़ कर मेरे मुंह में भरने लग गयी। उसके स्तन का २/३ हिस्सा मेरे मुंह में था, तो मै उसकी चूची को चूसता हुआ उसके दूसरे चूची को दबाने लग गया।

उसके मुंह से ओह आह ऊं जैसे शब्द निकल रहे थे, और मेरा लंड कच्छा के अंदर टाईट हो चुका था। तभी रिया मेरे चूतड़ को सहलाने लग गयी, और वो धीरे से मेरा कच्छा को उतारने लग गयी।

अब मैं उसके दूसरे स्तन को चूसता हुआ, उसके दुसरे चूसे के निपल को मैं उंगली में लेकर मसलने लग गया। इससे रिया अपने दोनो पैर को एक दूसरे से रगड़ रही थी, पल भर तक मैंने उसकी चूची को चूसा।

फिर मैं वाशरूम चला गया, वहां मैंने अपना कच्छा को खोलकर रख दिया और मैं पेशाब करके लंड को धोने लग गया। फिर मैं वापस कमरे में नंगा ही आया, तो रिया मेरे लंड को देख बेड पर उठकर बैठ गई।

अब जब मै बेड पर बैठा तो, उसने मुझे बिस्तर पर धकेल दिया। और वो मेरे लंड को हाथ में पकड़ने लग गई, धीरे धीरे लंड को हिलाते हुए उसने अपना चेहरा मेरे लंड पर झुकाया। फिर उसने मेरे लंड को चुसना शुरू कर दिया।

वो मेरे लंड को अपने होंठो से रगड़ रही थी, जिससे मेरा बुरा हाल हो रहा था। मै अब अपना हाथ आगे करके उसके सीने से लग गये स्तन को पकड़ने लग गया, और मैं धीरे धीरे उसके बूब्स को दबाने लग गया।

तो रिया ने मुझसे नजर मिलते हुए अपना मुंह खोला, और उसने मेरे पुरे लंड को अपने मुंह में भर लिया। अब वो मेरे पुरे लंड को चूस रही थी, और मेरा लंड और ज्यादा सकत हो गया था। तभी रिया मेरी झांटो में हाथ घुमाते हुए, मेरे लंड को मुंह से धके देने लग गयी।

मेरा लंड अब लोहे की सलाख़ बन चूका था, फिर मैं चिलाते हुए बोला – अरे मादरचोद रंडी मेरा लंड अपने मुंह में हि खलास करेगी क्या? और फिर क्या तेरा बाप तुझे चोदेगा?

फिर कुछ देर और उसने मुख्मेथुन किया, फिर रिया ने गीले लंड को मुंह से बहार निकला। फिर वो मेरे गीले लंड को अपनी जीब से चाटने लग गयी। अब मेरा मन उसे चोदने का था, पर वो साली अभी भी मेरा लंड चाटे जा रही थी।

फिर कुछ देर बाद वो बाथरूम में चली गयी, मैं बेड पर लेटा हुआ उसका इंतज़ार कर रहा था। फिर कुछ देर बाद वो बेड पर आ कर बैठ गयी, फिर मैंने लेटाया और मैं उसकी कमर के पास बैठ गया।

फिर मैंने रिया के चूतडो के निचे एक तकिया रख दिया। रिया की चूत अभी उसकी पंटी में कैद थी, फिर मैंने उसकी चिकनी मोटी जांघ को चुमते हुए उसकी चूत पर हाथ लगाने लग गया। फिर मैं पंटी के उपर से ही उसकी चूत को ऊँगली से मसलने लग गया।

रिया – अबे हरामी कम से कम मेरी पंटी तो उतर दे, और मेरी चूत को चोद ना की उसको मसल।

पर मैं रिया को गरम कर रहा था, फिर उसकी दूसरी जांघ को चूमने लग गया। इससे वो अपनी चूत को हवा में उचकाने लग गयी। फिर मैं उसकी पंटी को निचे करने लग गया, पर उसने अपनी दोनों जांघों को एक साथ चिपका लिया।

ताकि मैं उसकी चूत के दर्शन न कर सकूं। फिर मैं सीधा उसकी कमर पर झुका और चुमते हुए मैं उसको कस कर पकड़ने लग गया। कुछ देर तक मैं उसकी कमर को चूमता रहा, तो रिया अपनी दोनों को जांघों को दोनों दिशा में करके अपनी चूत मुझे चमकाने लग गयी।

उसकी गदेदार चूत हीरे की तरह चमक रही थी, तो मैं अपनी लगाकर उसकी चूत को फैला रहा था। अब मैं झुककर उसकी चूत के आंतरिक हिस्से को देखने लग गया, वैसे भी रिया इतना नहीं चुदी थी, कि मुझे उसकी चूत का आंतरिक भाग पूरी तरह से दिख जाये।

रिया – अरे बहन चोद क्या खोज रहा है मेरी चूत में।

तो फिर मै चूत में जीभ घुसा कर उसकी चूत को चाटने लग गया, फिलहाल मेरा लंड कड़े लोहे की तरह था। फिर भी वो मेरे काबू में था, सो मैं उसे अपनी जीभ से उसकी चूत को चोदने मस्त था

रिया अपनी चूतड़ को ऊपर की और करते हुए खुद ही अपनी चूची दबा रही थी। मै कुत्ते की तरह उसकी चूत को लपालप चाट रहा था।

रिया- उह ओह उम आह लगता है चूत का रस निकाल कर ही चोदेगा।

तो मै चूत को मुंह में भर कर लेमंचूस की तरह चूसने लग गया, कुछ देर बाद रिया बोली।

रिया – आह मेरा चूत ओह पानी फेकेगी अब ले पि इसे।

फिर उसकी चूत का रस मेरे मुंह में आ गया, तो मै दीदी की चूत के रस को पीकर चूत को चाटने लग गया। वैसे भी मै रिया की चूत का मूत्र बियर में मिलाकर पी चुका था।

रात्रि के ०९:२५ हो चुके थे, और हम दोनों अब अपने काम क्रीड़ा कि आखरी तैयारी में लग गए। रिया वाशरूम जाकर अपनी चूत को साफ करने लग गयी, और मूत्र क्रिया करके बेड पर आ गयी।

फिर दीदी अब बेड पर लेटकर अपने चूत को सहलाने लग गयी, तो मै अपना लंड हाथ में लिए उसको दिखा रहा था। इतने में मेरा मोबाइल बज उठा और पास पड़े टेबल पर हाथ लगाकर मोबाइल लिया। फिर मैं मम्मी से बात करने लग गया।

माँ – ट्रेन खुले आधा घंटा हो गया, तुम घर पहुंचे की नहीं अभी तक?

दीपक – हां माँ, सब ठीक है और दीदी अपने कमरे में पढ़ाई कर रही है।

मम्मी – ठीक है वक़्त पर खाना खा लेना और रिया का ख्याल रखना।

मै तो रिया दीदी का पूरा ख्याल रख रहा था, अब बाते बंद हुई तो मै दीदी के दोनों मोटे जांघों के बीच लंड पकड़े बैठ गया। रिया अपने चूतड़ के नीचे अब भी तकिया रखे हुई थी, ताकि दोनों का ओज़ार आमने सामने आ जाये।

अब मैं दीदी की चूत के दरार पर सुपाड़ा रगड़ने लग गया, तो वो उंगली की मदद से चूत फैलाने लग गयी। धीरे धीरे सुपाड़ा सहित १/३ लंड मैंने चूत में घुसा दिया, और फिर एक तेज झटका चूत में दे दिया। अब मेरा मूसल लंड चूत में था तो रिया चिंख उठी और बोली।

रिया – बाप रे बाप मेरी चूत को फ़ाड़ के ही दम लग गया क्या? धीरे चोद ना भाई।

मैं दीदी को चोदते हुए बोला – धीरे धीरे चोदूंगा साली तो तू अपनी सहेली को सुनाओगी की मेरे भाई के लंड में जान नहीं है, अब चुप चाप चुद आराम से।

और फिर मेरा लंड रिया की चूत को चीरता हुआ चूत की गहराई तक जा रहा था। वैसे भी ये मर्द जाति की एक भूल ही है, कि वो सोचता है कि मैंने चूत की गहराई तक में अपना लंड पेलकर चुदाई की है।

लेकिन ये हकीकत है कि लड़की हो या महिला, उसकी चूत की गहराई चुदाई के बाद बढ़ती ही जाती है। अब रिया की चुदाई करते हुए, मैं उसके जिस्म पर सवार हो गया था। तो मेरी चुद्दक्कर बहन मेरे होंठ को चूमते हुए, मेरी कमर को कसकर पकड़ रही थी।

और वो अपने चूतड़ को ऊपर नीचे करने लग गयी, वाकई धीरे धीरे चुदाई में वो एक्स्पर्ट हो रही थी। मेरी छाती उसके स्तन का एहसास पा रही थी, रिया की चूत में लंड पेल पेल कर मैंने चूत को आग की भट्टी बना दिया।

रिया अब शांत लेट कर चुद रही थी, फिर अचानक वो चिंख्ने लग गयी और वो बोली – दीपक अब चूत में आग लग गयी हुई है, प्लीज़ रस झाड़ दो ना।
मैं उसके होंठ चुमते हुए बोला – अभी वक्त लगेगा तो एक ब्रेक लेते है।

फिर मै रिया के जिस्म पर से हट गया और मूतने चला गया। जबकि रिया बिस्तर पर नग्न लेटी हुई थी, मै अब डायनिंग रूम गया और रेफ्रजिरेटर से एक मख्खन कि टिकिया को निकाला और वापस आ गया।

रिया टांग चिहारे चूत बिचकाए लेटी हुई थी, मुझे देख कर वो बोली – क्या अब बहन की चूत को मक्खन लगाकर चोदोगा?

दीपक – जरूर, इससे चूत की गर्मी भी इससे शांत पड़ेगी और तुमको भी चुदाई में मजा आएगा।

फिर मै रिया की चूत के सतह पर बटर की टिकिया रगड़ने लग गया, वो खुद ही चूत को फैला कर मै बटर की टिकिया को अंदर घुसाने लग गया। ताकि बटर चूत की गर्मी से पिघल कर अंदर के मार्ग को चिकना और गिला कर दे।

आखिरी में मै चूत के अंदर टिकिया घुसकर अपना चेहरा चूत पर झुकाया, और चूत को जीभ से लपा लप चाटने लग गया। मुझे चूत चाटने में बेहद आनंद मिलता है, और कुछ देर बाद उसकी बूब्स को भी मसलने लग गया।

अब रिया की चुदाई होने वाली थी, सो मैंने उसको बेड पर कोहनी और घुटने के बल कर दिया। रिया बिल्कुल कुतिया की माफिक बेड पर थी, तो मै उसके चूतड़ के सामने लंड पकड़ कर बैठ गया।

रिया अब मुझे निहार रही थी, तो मै उसकी चूत में लंड घुसाने लग गया। मेरा पूरा लंड आराम से रिया की चूत निगल गई, और मै उसकी कमर को पकड़कर तेज चुदाई करने लग गया। चूत का रास्ता चिकना था और लंड पूरी गति से चुदाई कर रहा था।

तो दीदी भी अब अपने चूतड़ को आगे पीछे करने लग गयी, अब वो भी चुदाई का मजा वो बढ़ा रही थी। तो मै उसको चोदता हुआ, उसकी चूची दबाने लग गया।

रिया – और तेज चोद साले तेज फ़ाड़ मेरी चूत तू ही तू मेरी चूत की खुजली मिटा सकता है।

अब मेरा हाल खराब था और अब मेरा लंड आत्मसमर्पण करने को तैयार था, तो रिया अपना चूतड़ हिला डुलाकर चुदाई का मजा ले रही थी। अब उसकी चूत में भी सुखाड़ था और मेरा लंड भी आग हो चुका था।

फिर मै चिख उठा और मै बोला – ये ले साली चुद्कड मेरा निकल रहा है।

और मेरा लंड चूत में वीर्य गिराकर शांत पड़ गया, हम दोनों थक चुके थे। फिर हम दोनो एक दूसरे से अलग हुए और रिया मेरा लंड चूसकर वीर्य का स्वाद लेने लग गयी।

आगे क्या हुआ, अगले भाग का इंतजार कीजिए।

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top