कॉल बॉय से चुदी शादी-शुदा पत्नी फ्री में (Call boy se chudi shaadi shuda patni free mein)

हैलो, दोस्तों कैसे हो आप सब? मैं रोहित आपके लिए एक और नई रियल कहानी लेकर आया हूं। जिसमें मैंने मिडिल क्लास हाउसवाइफ को चुदाई का सुख दिया। उसकी मजबूरी की वजह से मुझे उसे फ्री में चोदना पड़ा।

मुझे आप जानते ही हो। जो मेरे बारे में नहीं जानता है, वो मेरी पिछली कहानियां पढ़े, सब पता चल जाएगा आपको। मैं अब स्टोरी पर आता हूं। मेरी कहानियां पढ के मुझे एक महिला का मेल आया। उसका नाम काजल था। उसकी उम्र 30 साल थी। वो इंदौर की रहने वाली थी। उसने मुझे मैसेज करके बताया।

उसने मुझसे कहा कि उसे मुझसे चुदना था। उसका पति बहुत शराब पिता है, और उसे चोद भी नहीं पाता था। अभी तक वो बच्चे की माँ भी नहीं बन पाई थी। उसकी शादी को 5 साल हो गए थे। लेकिन पति से जो ख़ुशी मिलनी चाहिए, वो कुछ नहीं मिली थी।

उसने मुझसे कहा: मुझे आपके साथ सेक्स करना है। क्योंकि मुझे आपकी कहानी अच्छी लगी। और आप मुझे सिक्योर बॉय भी लग रहे हो। मुझे कोई परेशानी नहीं होगी। प्लीज रोहित मुझे ख़ुशी दे दो।

काजल ने फिर कहा: मैं आपको पैसे नहीं दे पाऊंगी। बस अपना पूरा जिस्म दे सकती हूं। प्लीज रोहित मना मत करना।

मैंने उससे बोला: बिना पैसे के मुमकिन नहीं है यार।

काजल: प्लीज, रोहित! मेरे लिए कर लो ना। मैं आपको सब दे रही हूं ना। आपका जैसा मन करे वैसे चोदना। कुछ मना नहीं करूंगी। मैं एक मिडिल क्लास घर से हूं। मेरे पति ज़्यादा नहीं कमाते हैं। मैं खुद स्कूल मे पढ़ाने जाती हूं। प्लीज, प्लीज, रोहित। मान जाओ। एक बार बिना पैसे के भी कर दो ना। मेरी भी मजबूरी समझो।‌ तुम मुझे अपने दोस्त से भी चुदवाना, मैं मना नहीं करूंगी।

मैं: तुम्हें प्रेग्नेंट भी होना है क्या?

काजल: ये तो आप पर निर्भर करता है, आप मेरे साथ क्या करते हो। मुझे कोई समस्या नहीं है। मैं आपकी रंडी या बीवी बनके चुदना चाहती हूं। आप मुझे जो बनाना चाहो बना सकते हो।

मैं: ठीक है। लेकिन मैं फिर मेरी मर्जी से करूंगा सब। तुम मुझे कुछ करने से नहीं रुकोगी।

काजल: कौन रोक रहा है आपको? आपका जो दिल करे वो करना। मुझे पूरा सन्तुष्ट कर दो।

मैं: ठीक है, आ जाओ तुम।

काजल: मैं नहीं आ सकती। मेरी भी मजबूरी है, मैं शहर से बाहर नहीं जा सकती। मैं आपसे स्कूल के समय पर मिलने आया करूंगी, बेबी आप आ जाओ यहां। मैं आपको आने-जाने का सब पेमेंट कर दूंगी। इतना तो मैं कर सकती हूं।

मैं: ठीक है, कब आना है?

काजल: ये आने वाले मंडे को आ जाओ। 2 दिन हम दोनों खूब मजा करेंगे। मैं आपकी पत्नी बनके चुदना चाहता हूं। मैं आपकी फैन बन गयी हूं।

फिर दोस्तों मुझे उसके लिए इंदौर जाना पड़ा। काजल ने होटल लोकेशन बता दी। मैं सीधा होटल सुबह 9 बजे तक पहुंच गया। काजल वही रूम में ही थी। उसने मुझे रूम में बुला लिया। मैं जब रूम में गया तो मैंने काजल को देखा। उसने लाल रंग की साड़ी पहनी रखी थी। उसका चेहरा सांवला था।

उसके स्तन ज्यादा बड़े नहीं थे, और सामान्य आकार था, और कमर उसकी 30″ थी। गांड का साइज भी इतना ही था। काजल को देख लग रहा था, वो ज्यादा नहीं चुदी थी। मैं उसे देख कर मुस्कुराया। उसने भी मुझे देखा और एक शर्म वाली मुस्कान दी। वो बिस्तर पर बैठी हुई थी। मैंने उसे कहा-

मैं: काजल बेबी, कैसी हो तुम?

काजल: ठीक हूं, मैं बस आपका इंतजार कर रही थी।

हमने थोड़ी देर बातें की। उसके बाद कुछ चाय नाश्ता किया। इतने में 10 बज गये थे। काजल मेरे सामने बिस्तर पर बैठी थी। मैं उसकी आँखों में देखता हुआ उसके पास गया। काजल ने अपनी आंखे नीचे कर ली।

मैंने उसका चेहरा अपने हाथों से पकड़ा तो वो ब्लश करने लगी। अब मेरे होठ और काजल के होंठों में थोड़ा सा अंतर था। मैंने धीरे से उसके होंठों पर अपने होठ रख दिये। जैसे ही मैंने उसके होठों को छुआ, तो उसकी हल्की सी गरम सिस्की निकल गई।

काजल: श्श्श।

मैं उसके मुलायम लाल लिपस्टिक वाले होठों को चूसने और चूमने लगा। वो बस अपनी आंखें बंद करके मेरे चूमने को महसूस कर रही थी। थोड़ी देर बाद काजल ने भी अपने होठों को चलाना शुरू किया। वो भी मेरे होठों को चूसने लगी। 10 मिनट तक मैंने उसके गरम होठों का रस-पान किया था।

काजल ने अब अपने दोनों हाथ मेरे बालों में रख दिये और उन्हें सहलाने लगी। मैंने भी उससे चूमते हुए बिस्तर पर सुला दिया, और उसके सांवले बदन के उपर आ गया। हम दोनों एक-दूसरे को जबरदस्त स्मूच देने लगे। 10 मिनट की किस के बाद वो बोली।

काजल: वाह रोहित! बहुत मजा देते हो आप। ऐसा गरम अहसास मुझे किसी ने नहीं दिया। सच्ची, आपसे प्यार करने में बहुत अच्छा लग रहा है।

मैं: हां मेरी रानी। आज तुझे रंडी बना के खूब पलंग-तोड़ चुदाई करुंगा।

तुझे देख कर लग रहा है तू बहुत समय से नहीं चुदी है।

काजल: हां, आपने सही कहा। पिछले 9-10 महीने से नहीं चुदी हूं। आज आप मुझे खूब चोदो।

काजल की गरम बातें सुन कर मैं उसे फिर से चूमने लगा। इस बार मैंने उसका होठ काट लिया था। तो‌ वो सिस्की लेके बोली-

काजल: आह्ह, श्श्श। क्या करते हो राजा। आप बहुत बदमाश हो।

मैं: मेरी रंडी, अभी तूने मेरे बदमाशी देखी कहा है।

काजल: आज अपनी सारी बदमाशी मुझ पर निकालोगे क्या?

काजल के गालों को चूमते हुए बोला-

मैं: हां मेरी कुतिया।

वो भी हस्ते हुए मेरे गालों को चूमने लगी। हमारी चुम्मा-चाटी 15 मिनट चली। काजल ने अब मेरी शर्ट निकाल दी, और मेरे ऊपर आ कर मेरे सीने को चाटने लगी। मैंने उसके काले बालों को खोल दिया। जब वो मेरे सीने पर अपनी मुलायम और गरम जुबान घुमाती थी, तो मेरे बदन में गर्माहट आ जाती थी। मेरे सीने के ऊपर एक 30 की औरत खुले बालो में गरम होकर मुझे चाट रही थी। जिसकी गरम जुबान से मेरी भी सिस्की निकल गई।

मैं: आह्ह‌ उम्म्म मेरी कुतिया, क्या मस्त चाट रही है।

काजल: आपको अच्छा लगा ना? आप मुझसे खुश हो ना?

मैं: हां साली। और अच्छे से कर।

काजल ने मेरे सीने को 10 मिनट तक खूब चाटा। उसके बाद वो अपनी नरम जुबान से मेरे पेट और नाभी को चाटने लगी। काजल के लम्बे बाल मेरे पेट पर फैलने लगे। जिसे मैं हाथो से दूर कर देता था।

काजल ने मेरी नाभि खूब चाट-चाट कर गिली कर दी। उसने 20 मिनट तक खूब दिल से मेरी नाभि को चाटा। उसके बाद मैंने काजल को अपनी नीचे सुला दिया, और अब मैंने उसका ब्लाउज निकाल दिया। अंदर उसने लाल फूल वाली ब्रा पहनी थी। मैंने उसे भी जल्दी से निकाल दिया।

काजल मेरे सामने अपने काले निप्पल वाले स्तन लेके लेटी हुई थी। मैं उसके स्तनों पर टूट पड़ा। बूब्स के निप्पल बहुत टाइट होने लगे थे। मैंने एक निप्पल को मुंह में लिया और उसे चूसने लगा।

और दूसरे स्तन को जोर-जोर से दबाने लगा। उसके निप्पल को जोर से मसल देता था। जिससे काजल की गरम दर्द भरी सिसकियां निकल जाती थी।

काजल: उह्ह्ह माँ श्श्श आह्ह्ह्ह। रोहित दर्द हो रहा है।

मैं बिना सुने उसके स्तनों को मसलने लगा। एक स्तन को पूरा मुंह में लेने लगा, और उसे खूब जोर-जोर से चूसने लगा। बूब्स का निप्पल दांतों से ऊपर खींचने लगता तो‌ उसकी दर्द भरी सिस्की निकलने लगती।

काजल: आह्ह उह्ह उफ्फ्फ राजा जी। और चूसो मेरे बाबू। खा जाओ सब आपके ही हैं।

मैं: हां साली रंडी। तेरी माँ चोद दूंगा आज। तेरी चीखे निकाल दूंगा।

काजल: आह्ह उम्म्म मेरे पतिदेव। आप सबकी चीखे निकालने में वैसे भी एक्सपर्ट हो।

मैं काजल के स्तन ऐसे चूस रहा था, जैसे आम को पूरा चूसते है। और उसके दूसरे स्तन को ऐसे निचोड़ रहा था, जैसे नींबू को निचोड़ते है। मेरे जोर-जोर से चूसने और स्तन निचोड़ने से उसके निप्पल और स्तन लाल हो गए। उसका दर्द भरी सिसकियां निकलने लगी।

काजल: उह्ह्ह आह्ह आह्ह, बहुत जालिम मर्द हो आप। ऐसे ही करते रहो, आह्ह और जोर से मसल दो इन्हें। खा जाओ।

उसकी गरम बातों से मैं जानवरों की तरह हो गया। उसके निप्पल को दांतो से काटने लगा। मेरे दांतों के निशान बूब्स पर छप गए। दोनों स्तनों को बारी-बारी से जोर-जोर से चूसने लगा। जिससे काजल बिस्तर पर दर्द की वजह से मचल रही थी। काजल की गरम सिस्कियों से कमरा गूंजने लगा।

करीब 20 से 30 मिनट तक उसके स्तन चूस कर निचोड़ दिये। उसे बहुत दर्द हुआ था। लेकिन वो चुदाई का आनंद खराब नहीं करना चाहती थी। इसलिए मजे लेते हुए सब सह गई। अब मैं उसकी नाभि चाटने लगा। उसकी सांवली और मुलायम नाभि पर अपनी जुबान घुमाने लगा। मेरे चाटने से वो मेरा सर अपनी नाभि में दबा देती और सिस्की लेती।

काजल: शशश उम्म्म उहह। बहुत बढ़िया सेक्स करते हो रोहित आप।

मैं अब उसकी नाभि को मुंह मे लेके ऊपर दांतों से उठाता जिससे उसे दर्द होने लगता। 20 मिनट नाभि को चाट कर और काट कर लाल कर दी। उसकी गरम आंहे, मुझे गरम कर रही थी। मैंने अब काजल की साड़ी निकाल दी, और एक झटके में उसका पेटीकोट भी निकल फेका। काजल एक लाल पेंटी में थी। जो कि बहुत गीली हो चुकी थी। मैंने उससे कहा-

मैं: क्या बात है कुतिया? तू तो गीली हो गई।

काजल: आप इतनी दर्द भरी बदमाशी करोगे, तो गीली तो होगी ना। बहुत बेशरम हो आप। जरा सा भी रहम नहीं करते हो।

मैं: मेरी रंडी कुतिया। रहम कर दिया तो चुदाई का मजा नहीं आएगा ना।

काजल: हां, आपको थोड़ी ना दर्द होता है। दर्द तो मुझे दे रहे हों। मेरी यहां जान निकाल दी आपने बिना चोदे।

मैं उसकी तरफ हंसते हुए गया, और उसके नरम होठों को 2 मिनट तक दबा के चूसा। जिससे उसको भी बहुत मजा आया। काजल ने भी हंसते हुए, मेरे गालों को चूसा। वो मेरी हरकतों का आनंद ले रही थीं।

मैं अपनी जुबान उसके सिर से घुमाते हुए, उसके गले तक लाया, फिर स्तन से होते हुए नाभि तक ले गया। उसके बाद जुबान को पेंटी के ऊपर चूत पर लाकर रोक दी। गीली चुत पर जुबान घुमाने लगा। मेरी इस हरकत से काजल बेड पर अपना सिर पटकते हुए मचलने लगी। काजल की जोर-जोर से गरम सिसकियां निकलने लगी।

काजल: उम्म्म उह्ह्ह श्श्श आह्ह, माँ। रोहित! आज आपने मुझे पागल कर दिया। क्या मजा देते हो कसम से। आज से मैं आपकी हुई। आपको जैसा चोदना है वैसे चोदना मुझे। प्लीज मेरे राजा। मुझे कभी छोड़ कर मत जाना। मैं आपकी दीवानी हो गई हूं।

मैं: हां मेरी जान। तू मेरी पर्सनल रंडी है। बोल है ना?

काजल: हां हूं मैं आपकी रंडी। जो बनाना है बना लो अपनी। मैं अपने उस मादरचोद पति से परेशान हो गई हूं। मुझे बस आपकी बीवी, रंडी बन के रहना है। मुझे ऐसी आपसे चुदना है।

दोस्तों कहानी अभी यहीं तक है। आप अगले भाग का इंतजार करें। जल्दी अगला भाग आएगा।

मुझसे किसी भाभी, विधवा महिला, आंटी, लड़की को सुरक्षित सेक्स चाहिए, तो आप मुझे मेल करें। आप बिना डरे अपने दिल की बात मुझसे बोले। आपको पूरा समर्थन मिलेगा। आपकी सभी जानकारी पूरी सुरक्षित रखी जाएगी।

आप मुझे [email protected] पर मेल करें। आप मुझसे गुप्त चैट के लिए गूगल चैट कर सकते हैं। एक बार मेरे 7 इंच के लंड को सेवा मौका जरूर दे।

धन्यवाद।

Leave a Comment