Utejna Sahas Aur Romanch Ke Vo Din – Ep 54

This story is part of a series:

सुनीलजी ने सिपाही की बॉडी निचे गिराने पहले उसकी बंदूक ले ली थी। अब उनके पास दो बंदूकें हो गयीं। एक बंदूक आयेशा के पास थी अब एक और बंदूक सिपाही से हथिया ली।

आयेशा काफी खुश नजर आ रही थी। पहली बार उसे महसूस हुआ की उसने ना सही, उसके साथीदार परदेसी (सुनीलजी) ने उसके अब्बूकी कतल का बदला लिया था। आयेशा को सिपाही के मरने का कोई ग़म नहीं था।

सुनीलजी ने जब दुश्मन के सिपाही को मौत के घाट उतार दिया उस समय उनमें एक गज़ब का जोश और जूनून था। पर सुनीलजी जब चट्टान से चढ़कर गुफा में घुसे तब उनका मन बहोत दुखी था। उनके लिए यह सोचना भी नामुमकिन था की कभी वह किसी आदमी को इतनी बेरहमी से मार भी सकते हैं।

उनके मन में अपने आपके लिए एक धिक्कार सा भाव पैदा हुआ। उन्हें अपने आप पर नफरत हो गयी। जब वह गुफा में घुसे और जब आयेशा उनसे लिपट कर उन्हें किस करने लगी तो उनके मन में अजीब से तूफ़ान उमड़ रहे थे।

सुनीलजी को रोना आ रहा था। उनके लिए अपने जीवन का यह सबसे भयावह दिन था। जब कालिया को जस्सूजी ने मार दिया था तो उन्हें बड़ा सदमा लगा था। पर उस समय वह काम जस्सूजी ने किया था, उन्होंने नहीं। जब उस सिपाही को स्वयं सुनीलजी ने अपने हाथों से मौत के घाट उतारा तो उन्हें लगा की उनमें एक अजीब सा परिवर्तन आया है। उन्होंने महसूस किया की वह एक खुनी थे और उन्होंने एक आदमी का क़त्ल किया था।

हमें यह समझना चाहिए की जो सिपाही सरहद पर हमारे लिए जान की बाजी लगा कर लड़ते हैं, उन्हें भी मरना या किसी को मारना अच्छा नहीं लगता, जैसे की हमें अच्छा नहीं लगता। पर वह हमारे लिए और हमारे देश के लिए मरते हैंऔर मारते हैं। इसी लिए वह हमारे अति सम्मान और प्रशंशा के पात्र हैं।

सुनीलजी के करतब को बड़ी ही आश्चर्य भरी नजरों से देख रही आयेशा सुनीलजी के वापस आने पर गुफा में उन पर टूट पड़ी और उनसे लिपट कर बोली, “मुझे पता नहीं था तुम इतने बहादुर और जांबाज़ हो।”

जब सुनीलजी ने आयेशा को कहा की उनको सावधान रहने की जरुरत है, तब आयेशा ने कहा, “इस चट्टान के बिलकुल निचे एक छोटासा झरना है। मैं अक्सर वहाँ जा कर नहाती हूँ। वह गुफा में छिपा हुआ है। बाहर से कोई उसे देख नहीं सकता। तुम भी काफी थके हुए हो और तुम्हारे कपडे भी गंदे गए हैं। चलो मैं तुम्हें वह झरना दिखाती हूँ। तुम नहा लो और फिर दिन में थोड़ा आराम करो। मैं चौकीदारी करुँगी की कहीं कोई सिपाही इस तरफ आ तो नहीं रहा।”

सुनीलजी ने आयेशा की और देखा और मुस्कराये और बोले, “मोहतरमा! मेरे पास बदलने के लिए कोई कपडे नहीं है।”

आयेशा ने शरारत भरे अंदाज में कहा, “कोई बात नहीं। तुम बगैर कपडे ही ऊपर आ जाना, मैं नहीं देखूंगी, बस!” ऐसा कह बिना सुनीलजी के जवाब का इंतजार किये आयेशा ने सुनीलजी का हाथ थामा और उन्हें खींच कर हलके कदमों से गुफा के पीछे निचे एक झरने के पास ले गयी।

वहाँ पहुँचते ही उसने धक्का मारकर सुनीलजी को झरने में जब धकेला तो सुनीलजी ने भी आयेशा को कस के पकड़ा और अपने साथ आयेशा को लेकर धड़ाम से झरने में गिर पड़े। आयेशा हंसती हुई सुनीलजी स लिपट गयी और बोली, “परदेसी, तुम तो बड़े ही रोमांटिक भी हो यार!”

सुनीलजी ने आयेशा को भी जकड कर पकड़ा। उनका मन उस समय कई पारस्परिक विरोधी भावनाओं से पीड़ित था। विधि का विधान भी कैसा विचित्र है? एक दुश्मन के मुल्क की औरत उनकी सबसे बड़ी दोस्त और हितैषी बन गयी थी।

उस समय के सुनीलजी के मन के भावों की कल्पना करना भी मुश्किल था। वह सिपाही तो थे नहीं। उन्हें तो यही सिखाया गया था की “अहिंसा परमो धर्म।” अहिंसा ही परम धर्म है। सिपाही का खून और उसका मृत शरीर देख कर सुनीलजी को उलटी जैसा होने लगा था। जैसे तैसे उन्होंने अपने आप पर नियत्रण रखा था। पर जब आयेशा ने उनकी बहादुरी की प्रशंशा की तो उनको रोना आ गया और वह फुट फुट कर रोने लगे।

आयेशा सुनीलजी के मन के भाव समझ रही थी। वह जानती थी की एक साधारण इंसान के लिए ऐसा खूनखराबा देखना कितना कठिन था। वह खुद भी तो उस नरसंहार के पहले एक आम औरत की तरह अपना जीवन बसर करना चाहती थी। पर विधाता ने उसे भी मरने मारने के लिए मजबूर कर दिया था और जब पहली बार उसने वह सिपाही को मार डाला था तब उसे भी ऐसे ही फीलिंग हुई थी।

आयेशा ने आगे बढ़कर सुनीलजी को अपनी बाँहों में ले लिया हुए प्रगाढ़ आलिंगन करके (कस के जफ्फी लगा कर) सुनीलजी के बालों में उंगलियां फिराते हुए बोली, “ओ परदेसी, मैं समझ सकती हूँ तुम्हारे मन में क्या हो रहा है। मैं भी तो इस दौर से गुजर चुकी हूँ। पर हम लड़ाई के माहौल में है। क्या करें, या तो हम उनके हाथों मारे जाएँ, या फिर उनको मार दें। यहां शान्ति और अमन के लिए जगह ही नहीं छोड़ी है उन्होंने। मेरी माँ को मार दिया, मेरे अब्बू को मार दिया और मेरी इज्जत लूटने पर आमादा हो गए थे वह।”

आयेशा ने सुनीलजी का सर अपनी छाती पर रख दिया। आयेशा का पूरा जवान गीला बदन, उसकी छाती पर उभरे हुए आयेशा के स्तन की नरमी सुनीलजी के गालों को छू रही थी। आयेशा के बदन पर वैसे ही कम कपडे थे। जो थे वह गीले हो चुके थे और आयेशा के बदन को प्रदर्शित कर रहे थे।

सुनीलजी की आँखों के सामने आयेशा के स्तनों के उभार, आयेशा के बूब्स के बिच की खायी, यहां तक की उसकी निप्पलेँ भी दिख रहीं थीं। सुनीलजी ने देखा की आयेशा भी शायद उनके शरीर के स्पर्श से उत्तेजित हो गयी थी और उसकी निप्पलेँ उत्तेजना के मारे फूल कर एकदम सख्त होरही थीं।

आयेशा की नशीली आँखें सुनीलजी की आँखों को एकटक निहार रही थीं। सुनीलजी कीआँखों में सावन भादो की तरह पछतावे के आंसू बहे जा रहे थे।

सुनीता अपने मदमस्त स्तनों से सुनीलजी की आँखें बार बार पोंछ रही थी, और कहे जा रही थी, “बस परदेसी, काफी हो गया। मैं औरत हूँ। मैंने भी एक सिपाही को जान के घाट उतार दिया था। मुझे भी बहुत बुरा लगा था। पर मैं ऐसे नहीं रोई। तुम तो मर्द हो। बस भी करो।” ऐसा कह आयेशा ने अपने हाथ ऊपर अपनी कमीज कर उतार दी।

सुनील ने जब देखा की आयेशा ने अपनी कमीज़ उतार दी और वह सिर्फ ब्रा में ही पानी में खड़ी थी, तो वह स्तब्ध हो गए। आयेशा की कमीज काफी लम्बी थी और करीब करीब पुरे बदन को ढक रही थी। उसके हटने से आयेशा का पतला पेट और पतली छोटी सी कमर बिलकुल नंगी दिखाई दे रही थी।

सुनीलजी चुप हो गए। अब उनका ध्यान आयेशा की खिली हुई जवानी पर था। आयेशा की ब्रा उसके उभरे पूरी तरह फुले हुए स्तनोँ को बांध सकने में पूरी तरह नाकामियाब थी। पानी में भीग जाने की वजह से ब्रा भी आयेशा के स्तनोँ का गोरापन और फुलाव छिपा नहीं पा रही थी।

आयेशा की ढूंटी खूबसूरत सी उसके पेट के निचे और चूत के उभार के ऊपर बड़ी ही खूबसूरत लग रही थी। आयेशा का सलवार फटा हुआ था। आयेशा की जाँघें फ़टे हुए सलवार में से दिख रहीं थीं। आयेशा के सुआकार कूल्हे उसकी सलवार के नियत्रण में नहीं थे। कमीज़ के निकलते ही उनकी खूबसूरती सुनीलजी की आँखों को अपने ऊपर से हटने नहीं दे रहे थे।

उस देसी से सलवार में से भी आयेशा के दोनों मस्त कूल्हे और उसके बिच की दरार सलवार के पानी में गीला होने पर आयेशा की गाँड़ के दर्शन करा रहे थे। आयेशा की गाँड़ के बिच की दरार देख कर सुनीलजी का मन विचलित होने लगा था। उनका लण्ड उस दरार के बिच अपनी जगह बनाने के लिए लालायित हो उठा।

सुनीलजी की फ़टी हुई आँखों पर ध्यान ना देते हुए आयशा ने झुक कर अपनी कमीज़ झरने के पानी में धोयी और उसे निचोड़ कर एक पत्थर रख दी। फिर बड़ी ही अदा से उसने अपना सलवार निकाला। अब आयेशा सिर्फ एक ब्रा और पैंटी में ही थी। सलवार को भी उसने अच्छी तरह धोया और निचोड़ कर उसी पत्थर पर रख दिया।

सुनीलजी की आँखों के सामने अब आयेशा करीब करीब नंगी खड़ी थी। सुनीलजी आयेशा की जाँघों का कमल की नाल जैसा आकार देख कर देखते ही रह गए। उन्होंने विधाता की एक बड़ी ही खूबसूरत रचना अपने सामने साकार नग्न रूप में देखि। कहीं भी कोई कमी उस रचना में नहीं थी। मन ही मन सुनीलजी सोचने लगे की भगवान् ने औरत को कितना खूबसूरत बनाया है। और उसमें भी उनकी इस रचना एकदम लाजवाब थी।

आयेशा की दोनों जाँघों के बिच स्थित उसकी चूत का टीला अब स्पष्ट नजर आ रहा था। पानी में गीला होने के कारण आयेशा की पैंटी भी पारदर्शक हो गयी थी और आयेशा की छिपी हुई प्रेम बिंदु (उसकी खूबसूरत चूत) की झाँकी करा रही थी। आयेशा की झाँटें अगर होंगीं तो हलकी सी ही रही होंगी; क्यूंकि चूत के बाल नजर नहीं आ रहे थे।

आयेशा की गाँड़ के दोनों गाल (कूल्हे) अब नंगे थे और पैंटी की पट्टी जो की गाँड़ की दरार में घुस चुकी थी वह ना तो आयेशा की गाँड़ को छुपा सकती थी और ना तो गाँड़ के गालों के बिच की दरार को।

आयेशा सुनीलजी की नज़रों को नजरअंदाज करते हुए सुनीलजी के पास आयी। उसने सुनीलजी के दोनों हाथ ऊपर कर उनकी शर्ट और बादमें बनियान भी निकाली और उन्हें धो कर निचोड़ कर अपने कपड़ों के साथ ही रख दी। फिर आयेशा ने धीरे से अपने हाथों से सुनीलजी की पतलून की बेल्ट लूस की और पतलून खोली।

आयेशा का हाथ अपनी पतलून पर लगते ही सुनीलजी के पुरे बदन में झनझनाहट सी होने लगी। बेल्ट खुलते ही पतलून निचे गिर गयी। सुनीलजी का मोटा खड़ा लण्ड उनकी निक्कर में साफ़ साफ़ दिख रहा था। आयेशा ने सुनीलजी के लण्ड को छुआ नहीं था। पर उनका लण्ड एकदम फौजी की तरह निक्कर में खड़ा हो गया था।

सुनीलजी के लण्ड की और ध्यान ना देते हुए आयेशा ने उनकी पतलून भी पानी में अच्छी तरह धोयी और पहले की ही तरह अच्छी तरह निचोड़ कर पत्थर पर रख दी। आखिर में आयेशा पानी में बैठ गयी अपने बदन को घिस घिस कर पानी को अपने हाथों से अपने पर उछाल कर नहाने लगी। पानी में बैठे बैठे उसने सुनीलजी की और देखा। सुनीलजी बेचारे एक बूत की तरह आयेशा की गतिविधियां अचम्भे से देख रहे थे।

आयेशा ने सुनीलजी के पाँव को पकड़ उन्हें झकझोरा और कहा, “कमाल है! तुम कैसे मर्द हो? एक औरत तुम्हारे कपडे इतने प्यार से निकाल रही है और तुम हो की बूत की तरह खड़े हो और हिल ही नहीं रहे हो। अब मैं तुम्हारी निक्कर भी निकाल दू क्या? या फिर तुम ही निकाल कर मुझे धोने के लिए दोगे?”

आयेशा का ताना सुनकर सुनीलजी चौके और आयेशा के पास ही खड़े खड़े उन्होंने अपनी निक्कर अपने पाँव के निचे की और सरका दी।

सुनीलजी की निक्कर का पर्दा हटते ही सुनीलजी का खड़ा और कडा लण्ड खुलकर आयेशा के सामने आ खड़ा हुआ। आयेशा ने परदेसी का लण्ड देखा तो वह उसे देखती ही रह गयी।

उसके चेहरे पर शर्म की लालिमा सी छा गई। गुलाबी रंग का पूरी तरह तना हुआ इतना मोटा और लंबा लण्ड देख कर उसके मन में क्या भाव हो रहे थे उसकी कल्पना करना भी मुश्किल था। आयेशा सुनीलजी के खुले और आस्मां की और अपना उद्दण्ड सर उठाते हुए लण्ड को काफी देर तक नजरें उठा कर तो कभी झुका कर देखती रही।

आयेशा जब आगे झुकी तो सुनीलजी को ऐसा लगा जैसे आयेशा उनके लण्ड को उसके मुंह में लेकर उसे चूसने लगेगी। पर आयेशा ने आगे झुक कर सुनीलजी के पांव के निचे गिरी निक्कर को उठाया और बड़े प्यार से उसे अच्छी तरह धोया। फिर उसे निचोड़ कर पत्थर पर बाकी कपड़ों के साथ रख दिया।

आयेशा यह सोचकर बेताब थी की परदेसी का अगला कदम क्या होगा। आयेशा उम्मीद कर रही थी की परदेसी उसकी ब्रा और पैंटी निकाल कर उसको अपनी बाँहों में भर लेगा और उसके बरसों से प्यासे बदन और प्यासी चूत की प्यास उस वक्त बुझा देगा। पर सुनीलजी को वैसे ही खोया हुआ देख कर आयेशा ने अपने ही हाथोँ से अपनी ब्रा की पट्टी खोल दी और फिर थोड़ा झुक कर अपने पाँव ऊपर कर अपनी पैंटी भी उतार दी।

सुनीलजी बड़े ही अचरज और लोलुपता से विधि की सबसे खूबसूरत रचना को पूर्णिमा के चाँद की तरह अपनी पूरी कला में बिना कोई आवरण के नग्न रूप में देखते ही रहे। एक और मरने मारने की बात थी तो दूसरी और एक खूबसूरत रचना उनको अपनी पूरी खूबसूरती के दर्शन दे रही थी। सुनीलजी मन ही मन सोच रहे थे की हो सकता है इस मिलन से ही कोई नयी खूबसूरत रचना यह धरती पर पैदा हो!

पूरी तरह बिना किसी आवरण के नंगी आयेशा को सुनीलजी हक्केबक्के खड़े खड़े देखते ही रहे। उनके लण्ड से उनका पूर्वश्राव बहना शुरू हो गया था। सुनीलजी ने पहली बार आयेशा की इतनी खूबसूरत चूत को पूरी तरह से अनावृत हाल में देखा।

आयेशा की चूत सुनीलजी को बहुत ही ज्यादा सुन्दर लग रही थी। सुनीलजी को वह और औरतों से अलग ही लग रही थी। यह उनके मन का वहम था या हकीकत वह सुनीलजी समझ नहीं पा रहे थे। आयेशा की चूत की दरार एक महीन पतली रेखा की तरह थी। उसके दोनों और उभरे हुए चूत के होँठ कमालके खूबसूरत थे।

चूत के ऊपर बाल नजर नहीं आ रहे थे। ऐसा लग रहा था जैसे आयेशा ने अपनी झाँट के बाल कुछ ही समय पहले साफ़ किये होंगे। पर ऐसा था नहीं। क्यूंकि कुछ हलके फुल्के बाल फिर भी दिख रहे थे। आयेशा की चूत के होँठों के आरपार आयेशा की खूबसूरत सुआकार लम्बी जाँघें इतनी ललचाने वाली और अच्छे अच्छे मर्दों का पानी निकाल देने वाली थीं। चूत की सीध में ऊपर की और उभरा हुआ पेट जो और ऊपर जाकर पतली सी कमर में परिवर्तित हो जाता था, कमाल का था।

आयेशा ने जब देखा की सुनीलजी फिर भी चुपचाप उसे देख रहे थे तो चेहरे पर निराशा का भाव लिए आयेशा जाने की तैयारी करने लगी तब सुनीलजी ने उसे रोक कर कहा, “अभी हमने खतरों से निजात नहीं पायी है। हम दुश्मन के एक्टिव रहते हुए गाफिल नहीं रह सकते। कहीं कभी कोई सिपाही हमें देख ले और मार दे या पकड़ ले इससे बेहतर हैं हम पूरी तरह सावधान रहें। पहले हम यह सुनिश्चित कर लें की दुश्मन के सिपाही से हमें कोई ख़तरा नहीं है।”

सुनीलजी की बात सुनकर बिना कुछ जवाब दिए निराश हुई आयेशा धुले हुए सारे कपडे उठा कर जमीन का थोड़ा सा चढ़ाव चढ़ कर वापस गुफा में जाने लगी। नंगी चलती हुई आयेशा के मटकते हुए कूल्हों को सुनीलजी देखते ही रहे। उन्हें और उनके फुले हुए मोटे और लम्बे लण्ड को इस तरह चुदाई करवाने के लिए इतनी इच्छुक कामिनी को निराशा करना बड़ा ही खटक रहा था। पर क्या करे? वक्त ही ऐसा था की थोड़ी सी भी लापरवाही उनकी जान ले सकती थी।

आयेशा चुपचाप अपनी गुफा में पहुंची और धुले हुए गीले कपडे उसने पत्थर पर इधर उधर बिछा दिए। फिर अपने हाथ में एक बंदूक लेकर उसने गुफा के पत्तों से आच्छादित दरवाजे की दरार में से बाहर देखना शुरू किया। कुछ ही देर में सुनीलजी भी नंगे गुफा में पीछे से आ पहुंचे।

उन्होंने पीछे से आकर नंगी खड़ी आयेशा को अपनी बाँहों में लिया और अपना लण्ड आयेशा की गांड की दरार से सटाते हुए और आयेशा के उद्दंड दोनों स्तनोँ को अपने दोनों हाथों में दबाते और मसलते हुए बोले…

“देखो आयेशा, मैं कोई नामर्द नहीं हूँ की तुम्हारे जैसी बला की खूबसूरत औरत को नंगा देख कर मुझे कुछ नहीं होता। मैं इसी वक्त तुम्हें मन से और बदन से मेरी बनाना चाहता हूँ। मैं तुम्हारे और मेरे बदन की प्यास बुझाना चाहता हूँ। पर धीरज का फल मीठा होता है। पहले हम यह पक्का करलें की खतरा नजदीक नहीं। अब मुझ पर हम दोनों के जान की जिम्मेवारी है।”

आयेशा ने मुड़कर सुनीलजी के सर को अपने हाथों में लिया और सुनील के होँठों से अपने होँठ चिपका कर उन्हें चूसते हुए बोली, “मैं सोचती थी की यह मर्द तो पूरा छह फ़ीट लम्बा और हट्टाकट्टा है। इसका लण्ड भी इतना लंबा, मोटा, खड़ा और कडा है। फिर क्या इस परदेसी के सीने में दिल है की नहीं?”

आयेशा ने फिर गद्दे की और इशारा कर कहा, “तुम थके हुए हो। तुम वहाँ थोड़ी देर आराम करो। मैं यहां पैहरा दे रही हूँ। कुछ भी होने पर मैं तुम्हें जगा दूंगी। तुम्हें आराम की सख्त जरुरत है।”

आयेशा ने फिर अपनी आँखें नचाते हुए शरारत भरे अंदाज़ में कहा, “अगर तुम्हें ठीक आराम मिला तो तुम फिर से चुस्त हो जाओगे और दोस्तों और दुश्मनों दोनों को ही पूरा इन्साफ दे पाओगे।”

यह कहानी आगे जारी रहेगी..

[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top