मैं अपने नन्दोई से चूद गयी-4

This story is part of the Main apne nandoi se chud gayi series

    अगले दिन सुबह सुबह ही भईया बाजार चले गए और बहुत देर तक वापस नहीं आए और दोपहर को जब भईया घर आए और भईया ने पहले बाथरूम में ले जाकर मेरे मस्त मखमली और मादक जिस्म पर वैक्स क्रीम लगाई और कूछ देर बाद जब भईया ने वो क्रीम मेरे जिस्म से साफ की तो मेरा मस्त मखमली और मादक जिस्म चमक उठा और मेरा खूबसूरत जिस्म देख कर भईया के मुंह में पानी आ गया।

    उसके बाद भईया ने मुझे नहलाया और नंगी ही उठा कर कमरे में ले आए और मुझे ब्रा कच्छी के बहुत से सेट दिखा कर बोले साक्षी देखो कौनसा ब्रा कच्छी का सेट पहनेगी।

    मैंने कहा भईया जो आपको अच्छा लगे।

    भईया ने एक गुलाबी रंग का ब्रा कच्छी का सेट मुझे पहनाने लगे।

    मैंने कहा भईया क्या आप मेरी चुदाई नहीं करोगे।

    भईया ने कहा साक्षी मेरी प्यारी बहना मैं अभी अभी रानी और काको की चूदाई करके आया हूं और आज रात को अपनी प्यारी ओर खूबसूरत बहन की प्यार से चुदाई करूंगा और तब तक तू ऐसे ही ब्रा कच्छी में मेरे साथ रहेगी और उस दिन पूरा दिन भईया ने मुझे ब्रा कच्छी में ही रखा और बदल बदल कर मुझे ब्रा कच्छी पहनाते रहे और मेरे जिस्मसे खेलते रहे।

    रात को खाना खाने के बाद भईया मुझे किचन से ही अपनी गोद में उठा कर कमरे में ले गई और मुझे बिस्तर पर बैठा कर मेरे होंठ चूसते हुए मुझे नंगी करने लगे और जब भईया ने मुझे नंगी कर दिया तब मैंने कहा भईया आपने तो मुझे सुबह से ही कितनी बार नंगी किया है और आपने कल रात से अब तक मुझे अब तक अपना लंड नहीं दिखाया।

    भईया ने कहा साक्षी मेरी प्यारी बहना मैंने तुझे लंड देखने से कब मना किया है जैसे मैंने तुझे नंगी किया है वैसे ही तू भी मुझे नंगा कर ले।

    उसके बाद मैंने भी भईया को नंगा किया और जब मैं भईया का लंड अपने मुंह में लेकर चूसने लगी तब भईया का लंड और भी ज्यादा लम्बा और मोटा होने लगा।

    मैंने कहा भईया ये क्या मेरे चूसने से आपका लंड और भी ज्यादा लम्बा और मोटा हो गया है ऐसा क्यूं।

    भईया मेरे चूचे मसलते हूए बोले साक्षी मेरा लंड अपनी खूबसूरत बहन की प्यारी सी फूली हुई चूत देख कर अपनी बहन को चोदने को बहुत उतावला हो रहा है और अब तेरी मस्त महकती चूत देख कर इसे चोदने को फुफकार रहा है।

    मैंने कहा भईया फिर जल्दी करो न अपना मस्त लंड मेरी चूत में डाल कर अपने लंड की गर्मी मेरी चूत में झाड कर मुझे अपने बच्चे की मां बना कर अपने बच्चे का मामा बन जाओ।

    भईया ने कहा साक्षी मेरी प्यारी बहना पहले मैं अपनी प्यारी ओर खूबसूरत बहन की प्यारी सी फूली हुई चूत से प्यार तो कर लूं और भईया मेरी टांगों में बैठ कर मेरी चूत चाटने लगे।

    भईया ने मेरी चूत चाट कर मेरा कामरस निकाल दिया और मेरा कामरस चाट कर बोले उउउऊऊऊ साक्षी तेरी चूत चाटने में बहुत मस्त मजा आ रहा है और तेरे कामरस का स्वाद तो बहुत लाजवाब है।

    मैंने कहा भईया तो क्या रानी काको और उसके साथ तूने जिन भी लडकियों की चूदाई की है उनकी चूत और कामरस का स्वाद ऐसा नहीं है।

    भईया ने कहा साक्षी तू साली उन रंडीयो का नाम भी मत ले कहां वो साली रंडीया और कहां तेरी मस्त महकती चूत और उनकी चूत चाटने का जिम्मा तो उनके हिजडे भाई का है और मैं तो सिर्फ उनकी चूत का भोसडा बनाता हूं।

    मेरी चूत चाट कर भईया ने मुझे बिस्तर पर चित लिटाया और मेरी दोनों टांगे खोल कर अपना लंड मेरी चूत की दरार पर रख कर कहा साक्षी जब मेरा लंड अपनी खूबसूरत बहन की प्यारी सी फूली हुई चूत में घूसेगा और तेरी चूत की सील टूटेगी तब तुझे थोडा दर्द होगा और चूत से खून भी निकलेगा तू जरा बर्दाश्त करना।

    फिर भईया ने एक हल्का सा झटका लगाया और भईया के लंड का मोटा लाल सूपाडा मेरी चूत में फंस गया और मेरे मुंह से मादक सिसकी निकली और मैं अअअआआ करके बोली उउउऊऊऊ भईया आपका लंड बहुत गर्म है और भईया ने फिर एक धक्का लगाया और इस बार भईया का आधा लंड मेरी चूत की सील तोड़ कर मेरी चूत में समा गया और मैं दर्द से छटपटाने लगी और भईया को आराम से चोदने को बोलने लगी।

    भईया धीरे-धीरे धक्के लगाते हुए अपना लंड मेरी चूत में देने लगे और कुछ देर बाद जब मुझे मजा आने लगा और मैं अपने चूतड उठा कर भईया से चूदने लगी तो भईया ने भी अपने धक्कों की स्पीड बढा दी और करीब एक घंटे बाद भईया ने अपना वीर्य मेरी चूत में झाड दिया और मेरी चूत में लंड डाले ही मुझे चूम कर पूछा साक्षी कैसा लगा मैंने अपनी गांड उठा कर कहा उउउऊऊ भइया बहुत मस्त मजा आया और उस रात भईया ने मुझे अलग अलगढंग से पांच बार चोदा और अपना वीर्य मेरी चूत में और मेरे मुंह में और मेरे मस्त जिस्म पर छोडा।

    अब तो भईया रोज रात को मेरी चूदाई करने लगे और एक दिन दिन में ही जब मैं किचन में खाना बना रही थी तब मेरे पास आए और मेरे जिस्म से खेलने लगे मैंने भईया को रोक कर कहा भईया मैं आपकी बहन हूं पत्नी नहीं जो जब दिल किया तभी चुदाई शुरू कर दी।

    भईया मुझे अपनी गोद में उठा कर कमरे में ले जाकर कहा साक्षी मेरी प्यारी बहना क्या तू मुझसे शादी करेगी।

    मैंने कहा भईया मैं आपकी बहन हूं।

    भईया ने कहा साक्षी जब तू अपने भाई का लंड अपनी चूत में लेकर चूदती है तो तब मैं तेरा भाई नहीं होता और तू मेरी बहन।

    मैंने कहा भईया लोग क्या कहेंगे।

    भईया ने कहा साक्षी तू मुझसे शादी करने को राजी है तो फिर मेरे पास एक आइडिया है।

    मैंने कहा भईया क्या आइडिया है।

    भईया ने कहा साक्षी तू किसी के साथ भाग कर शादी करेगी और मैं तुझे जब घर से बाहर किसी होटल में रखूंगा और जब तेरी कोख में अपना प्यार रह गया मैं ये बोल कर तुझे वापस घर ले आऊंगा कि तेरा पति तुझे गर्भ से करके विदेश चला गया है और उसके बाद मैं और तू अपने घर में पति-पत्नी की तरह रहेंगे।

    मैंने कहा भईया पर मेरी एक शर्त है और वो ये कि हमारी सुहागरात यहीं अपने घर में होगी और अपनी सुहाग सेज मैं खुद अपने हाथों से सजाऊंगी भईया मेरी बात मान गए।

    कुछ दिन बाद मैंने और भईया ने शादी कर ली और शादी के बाद जब सुहागरात को सूहाग सेज पर भईया मुझे चोदने लगे और भईया और मुझे चूदाई में वो मजा नहीं आ रहा था तो मैंने भईया से पुछा जानू आज अपनी सुहागरात पर वो पहले जैसा मजा क्यों नहीं आ रहा।

    तब भईया ने कहा मेरी जान सुहागरात को सूहाग सेज पर हर चूत और लंड एक नई चूत और लंड से चूदती और चोदता है पर मैने तुझे पहले से ही चोद रखा है और मेरा लंड सुहागरात को सूहाग सेज पर एक नई चूत चोदना चाहता है और सुहागरात को सूहाग सेज पर जब तक लडकी की चूत की सील नहीं टूटती लंड को चुदाई करने में वो मजा नहीं आता।

    मैंने भईया का लंड चूम कर कहा उउउऊऊ भइया मेरा आपसे वादा है कि मैं खुद अपने हाथ से सुहागरात को सूहाग सेज पर अपने जानू के लंड को एक नई सील बंद चूत चोदने को दूंगी और भईया से लिपट गयी।

    शादी के एक महीने बाद ही मेरी कोख में भईया का बच्चा रह गया है और मैं वापस घर आकर भईया के साथ उनकी पत्नी बन कर रहने लगी।

    मैंने शालू दीदी से कहा दीदी आप बोल रही थी कि जीजू आपकी शादी से पहले से ही सासू मां जी को चोद रहे हैं वो कैसे हुआ।

    शालू दीदी ने कहा निशा जैसा तुझे साक्षी ने बताया कि तेरे जीजू पहले से ही मेरी मौसी और उसकी बेटियों को चोद रहे थे और मेरी मौसी का बेटा विजय हिजडा है और जब उसकी शादी को सुहागरात को तेरे जीजू विजय भईया की पत्नी पूनम की चूदाई करने वाले थे और मेरी मां भी यहीं भईया की शादी के बाद मौसी के घर ही रूक गई और तेरे जीजू और पूनम भाभी की चूदाई में बाधा बनने लगी तो मौसी ने एक दिन मम्मी को भी तेरे जीजू से चूदवा दिया और तब से मम्मी भी मेरी मौसी और उसकी बेटियों और तुम दोनों बहनों के जैसे तेरे जीजू की रंडी बन गई।

    मैंने कहा दीदी जब सासू मां जीजू की रंडी थी तो फिर जीजू को आपसे शादी करने की क्या जरूरत थी वो तो सासू मां जी से कह कर आपको कभी भी चोद सकते थे।

    शालू दीदी ने कहा निशा बात तो तेरी ठीक है पर तेरा जीजू की मौसी जो मेरी मम्मी की अच्छी सहेली है और उसकी बेटी अनु जिसे भी तेरे जीजू ने साक्षी की मदद से चोदा है उसकी शादी में तेरे जीजू ने मुझे देख लिया और वहीं पर अपना दिल मेरे से लगा लिया और जब इनको ये पता चला कि मैं तो उनकी रंडी बिमला की बेटी हूं तो ये मुझे उसी दिन शादी के लिए कहने लगे और शादी के बाद जब मैं सुहागरात को सूहाग सेज पर बैठी अपने पति का इंतजार कर रही थी तभी मेरे पास साक्षी आई और कहने लगी शालू वैसे तो भईया मुझसे बडे हैं और तुम मेरी भाभी पर तुझे एक राज की बात बतानी है कि टोनी हैं तो मेरे भाई पर अब हमने शादी कर ली है और जो बच्चा मेरी कोख में है वो भईया और मेरे प्यार की निशानी है।

    उसके बाद साक्षी ने मुझे मेरी मम्मी की चूदाई की बात भी बताई और मुझे अपनी छोटी बहन मान लिया।

    जब सुहाग सेज पर मैने तेरे जीजू का मस्त लंड देखा तो मैं एकदम से डर गई और बोली मैंने कुछ नहीं करना और नंगी ही अपने आप में सिमटने लगी।

    तभी तेरे जीजू ने कहा मेरी जान तुझे कुछ् नहीं होगा और जब तुम कहोगी मैं अपना लंड तभी तेरी चूत से निकाल लूंगा और उसके बाद मैंने तेरे जीजू का लंड चूसा और तेरे जीजू ने मेरी चूत चाटी और जब तेरे जीजू ने अपना लंड मेरी चूत में डाला तब मेरी चूत की सील टूटने से मुझे बहुत दर्द हुआ और मैंने तेरे जीजू से लंड निकालने को कहा और तेरे जीजू ने तभी अपना लंड मेरी चूत से निकाल लिया और उसके एक हफ्ते बाद तक मैंने तेरे जीजू को चोदने नहीं दिया और तेरे जीजू साक्षी को चोद कर ही अपना काम चलाने लगे।

    शादी के एक हफ्ते बाद जब मैं पहली बार मायके में गई और तब वहां रात को मुझे तेरे जीजू की बहुत याद आने लगी और मैंने अगले दिन ही तेरे जीजू को मुझे अपने साथ लेजाने को कहा और जब तेरे जीजू मुझे लेकर घर आए और मैं घर आते ही तेरे जीजू से लिपट गयी और साक्षी को कहा दीदी मैंने अभी चूदना है और साक्षी ने तभी हमारे लिए सुहाग सेज सजाई और उसके बाद तेरे जीजू ने मेरी और साक्षी दोनों की दमदार चूदाई की।

    अब मैं और साक्षी दोनों गर्भ से हैं और मेरी कोख में जुड़वां बच्चे हैं और अब जब मेरी और साक्षी दोनों की डिलीवरी हो जाएगी तब मैं और साक्षी दोनों अपना एक बच्चा बदल लेंगी ताकि मेरा और साक्षी दोनों के बच्चे तेरे जीजू को पापा और मामा दोनों कह सकें।

    पूरे एक हफ्ते टोनी जीजू ने मेरी और काजल की भरपूर चुदाई की और जीजू काजल को चोदने के बाद उसे गर्भ न रहने की दवा खिलाते।

    एक हफ्ते बाद जब मैंने और काजल ने अपने कपडे पहने तो वो हम पर छोटे पड गए क्योंकि जीजू ने हमें चोद कर हमारे चूचे जो पहले 32 साइज के थे उन्हें खींच खींच कर 36 का कर दिया और हमारी चूत का सूराख भी लगभग तीन इंच खोल दिया।

    ऐसे ही हमारी चुदाई जब भी हमें मोका मिलता जीजू करने लगे और एक दिन जब जीजू मेरे और काजल की चूदाई कर रहे थे तब मेरी सास का जीजू के पास फोन आया और सासू मां ने जीजू से कहा कि अब समय आ गया है कि तू निशा की चूदाई करके उसकी चूत फाड कर अपना बच्चा निशा की कोख में डाल दे।

    जीजू ने मुझसे कहा निशा अब जब सासू मां तुझे मुझसे चुदने को कहे और वो पहले तुझे और विजय को बहन भाई बनाएगी और उसके बाद विजय तेरी चूत चाटेगा और तेरी फटी चूत देख कर तुझे किसने चोदा है ये पुछेगा पर तूने ये नहीं बताना कि मैंने तुझे चोदा है और वो भी शालू और साक्षी के सामने।

    अगले दिन ही मेरी सास ने मुझे अपनी बहन के घर बुलाया और जब मैं वहां पहुंची तो वहां पर मेरी सास और मौसी सास करिशना और उसकी बेटी काको और बहु पूनम के साथ उसका बेटा विजयसभी नंगे थे।

    मेरे जाते ही मेरी सास ने मुझे कहा निशा अब तू हमारे घर की बहु बनने वाली है और हमारे घर की सभी बेटियों और बहुओं की पहली चूदाई तेरे ननदोई टोनी के लंड से होती है और अब तेरा ननदोई तुझे चोदने आता ही होगा और तब तक तू सबसे पहले विजय की कलाई पर राखी बांध कर इसे अपना भाई बना।

    मैंने विजय भईया की कलाई पर राखी बांधी और फिर विजय भईया मुझे नंगी करने लगे और जब मैं नंगी हो गई और विजय ने मेरी फटी चूत देखी तो कहने लगा बिमला दीदी इसकी चूत तो पहले से ही फटी हुई है और मेरी चूत को चाट कर बोला दीदी निशा की चूत से टोनी के लंड की महक आ रही है हो न हो ये पहले से ही टोनी से चूदती है।

    मेरी सास ने मुझसे पूछा निशा सच बता तू कब से टोनी से चूद रही है।

    तभी बाहर जीजू आ गए और हम सबको नंगी देख कर मेरी चूत में उंगली डाल कर मेरी सास का चूचा मसल कर कहा साली कूतिया रांड मैं तो यहां आज अपने लंड को चूत का खून पिलाने को आया हूं और तुम सब वही फटा हुआ भोसडा लिए बैठी हो।

    मेरी सास ने कहा मेरे राजा गुस्सा क्यों होते हो कल तेरे लंड के लिए दो नई चूत आ रही हैं अब तू हमारे फटे भोसडे से ही काम चला और कल मैंने तेरे साले सोनू से अपनी और तेरी दोनों सालियों की गांड मरवा दी है और उसे बता दिया है कि उसके लंड मे ऐसा दम नहीं कि वो किसी लडकी की चूत की आगठंडी कर सके और वो सिर्फ गांड ही मार सकता है और उसे अपनी चूत चटवा कर विजय जैसा चूत चाटने वाला कुता बना दिया है।

    उसके बाद जीजू ने मेरी गांड मारी और अपना मूत भी पिलाया और मुझसे कहा साली रांड तेरे तीनों मामा और दोनों मौसीऔं की बेटियों को मिला कर कुल आठ चूत हैं और उन सबकी चूत का उदघाटन मेरे लंड से ही होना है।

    तीन महीने बाद शालू दीदी ने एक बेटा और बेटी को और साक्षी दीदी ने एक बेटी को जन्म दिया और जीजू ने दोनों की बेटियों को आपस मैं बदल दिया। मेरी शादी के बाद जीजू ने मेरी सुहागरात को सूहाग सेज पर मेरे साथ साथ मेरे पति के मामा की दो बेटियों नेहा और मुस्कान की चूत की सील तोडी अब मेरी कोख में भी टोनी का बच्चा है।

    अब टोनी मुझे अपने मामा की बेटियों को चोदने को कह रहा है और मेरे बडे मामा प्रेम की बेटी चूदने को त्यार है और मेरी चूत में भी आग लगी है अब जीजू भी हमें चोदने को त्यार है।

    अब मैं अपनी कहानी को विराम देती हूँ और अगली बार आपको बताऊंगी कि मेरे चोदू ननदोई ने कैसे मेरे मामा और मौसी की बेटियों की चूदाई कैसे की। तब तक आप मेरी कहानी का मज लें और आपको मेरी चूदाई कहानी कैसी लगी कृपा लाइक और कमैंट जरूर करना।

    shallubansal82@gmail.com