Pooja Ki Pooja – Episode 5

This story is part of a series:

वीडियो खत्म होते ही राज ने मुझे एक ऐसी बात कही की मेरा सर चकरा गया। उसने कहा, “यार अनूप, मैं एक सच बात कहना चाहता हूँ। इस बार मैं चाहता हूँ की तुम मेरी बीबी को चोदो।

मैंने कहा, “बॉस, ऐसा मत बोलो। मुझे छोटापन महसूस हो रहा है।”

राज: “नहीं, इसमें कोई छोटापन नहीं। मेरी बीबी पूजा कमाल की खूबसूरत है यह तुम और मैं दोनों जानते हैं। उसे चोदने के लिए कोई भी मर्द तैयार हो जाएगा। पर मेरी इच्छा है की उसे ऐसा मर्द चोदे, जिसका लण्ड मोटा और तगड़ा हो। और जो इस रिश्ते की गंभीरता, सोहार्दता और गोपनीयता समझ सके। जो मेरी पूजा को चोदे मगर पुरे सम्मान के साथ। और मैं समझता हूँ की इसके लिए मुझे तुमसे और कोई बेहतर आदमी नहीं मिल सकता जो सारे मापदंडों में खरा उतरता है।

देखो, मैं देखना चाहता हूँ की मेरी बीबी किसीसे कैसे चुदवाती है। वह चुदाई करवाते समय कितनी फुदकती है और कितने मजे लेती है। अनूप मैं वाकई में मेरी बीबी को दूसरे लण्ड से चुदवाने का मजा देना चाहता हूँ। मैंने मेरी कॉलेज जीवन में कई लड़कियों को चोदा है और कई का कौमार्य भंग भी किया है। पर मेरी बीबी ने किसी से नहीं चुदवाया। हाँ अगर तुम्हें पता हो तो मैं नहीं जानता।”

मैंने कहा, “राज वह सच कह रही है। आज मैं तुम्हारे सामने कबुल करता हूँ की मेरी जरूर पूजा को अपनाने की और सेक्स करने की इच्छा थी। पर वह पूरी नहीं हो सकी थी। पूजा शादी के समय कुंवारी ही थी।”

उस दिन नीना नहीं थी पर हम दोनों के लण्ड एकदम फौलाद की तरह खड़े थे। अगर मेरी बीबी नीना वहाँ होती तो मैं जरूर उसको पकड़ लेता और पता नहीं मैं उसे राज के सामने या फिर राज को वीडियो देखते हुए छोड़ कर नीना को बैडरूम में ले जाकर वहाँ उसे चोद देता। पर वहाँ हम दोनों ही थे और हमारे लिए अपने लण्ड को समझाना बड़ा ही मुश्किल था। ख़ास कर मेरे लिए, क्यूंकि राज ने तो मुझे खुल्लम खुल्ला उसकी बीबी को चोदने का न्यौता दे ही दिया था।

राज ने मेरा हाथ सख्ती से थामा। वह मारे उत्तेजना के कुछ बोल नहीं पा रहा था। उसने मेरे लण्ड वाली झिप को खोल दिया और मेरे लण्ड को पतलून में से बाहर निकाल दिया। उसने धीरे से कहा, “मैं गे नहीं हूँ, पर जब तुमने दोस्ती का हाथ बढ़ाया है तो मैं भी उसका समर्थन करता हूँ। मैं यह भी देखना चाहता था की तुम्हारा लण्ड कितना बड़ा है। पूजा को मैं तगड़े लण्ड से चुदवाना चाहता हूँ। मुझे खशी है की तुम्हारा लण्ड मेरी पूजा को सैटिस्फैक्शन दिला सकता है।”

आखिर में उसके मुंह से यही निकला, “अनूप, में कह नहीं सकता की आज तुमने मेरा कितना बोझ कम किया है। मैं सच बताऊँ? मैं काफी समय से ऐसे दोस्त की खोज कर रहा था जो पूजा को मेरे सामने चोद सके और मेरे मन में कोई गम या कुशंका भी ना हो।

मेरे मुंह से तो शब्द ही नहीं निकल रहे थे। मैं क्या बोलूं? वहाँ मैं राज को गरम कर अपना मतलब निकालने का प्लान कर रहा था और यहां, राज खुद मुझे उसकी पूजा को चोदने के लिए प्रोत्साहित कर रहा था।

मैंने राज से कहा, “राज, दोस्त, मेरे लिए तुम्हारी दोस्ती कोई भी मकसद से ऊपर है। मैं जानता हूँ की पूजा तुम्हारी ब्याहता पत्नी है। आगे चलकर मेरे और पूजा के बिच में कुछ भी हो, वह तुम्हारी पत्नी है और रहेगी। मैं तुम्हारे रिश्ते को हमेशा एक इज्जत और सम्मान से ही देखूंगा और तुम दोनों के सम्बन्ध को किसी भी तरह से आहत नहीं होने दूंगा, यह मेरा वादा है। मेरी भी पत्नी है जिसे मैं बहुत चाहता हूँ।“

मेरा ऐसा कहने से राज एकदम खुश हो गया और मुझे गले लगा कर बोला, “अनूप, मेरी बीबी पूजा भले ही कितना मना करे पर मुझे लगता है की वह तुमसे एक बार तो चुदवा चुकी है। मुझे तुमसे कोई जवाब तलब नहीं करना। तुमने उसको चोदा या नहीं चोदा, जो भी हो। क्या तुम मेरी बीबी को चोदना नहीं चाहते? मैं जानता हूँ की तुम मेरी बीबी को चोदना चाहते हो। तुम भले मना करो पर मैंने तुम्हारी आँखों में मेरी बीबी के लिए एक लोलुपता भरी तड़प देखि है। खैर वह है ही ऐसी सेक्सी।“

राज की बात सुनकर मैं हैरान रह गया। वह क्या बोल रहा था? वह खुल्लमखुल्ला अपनी बीबी को चुदवाने की बात कर रहा था। मेरी समझ में नहीं आ रहा था। इतनी जल्दी राज मुझसे इतना कैसे खुल गया?

शायद मेरी पूजा की पुरानी पहचान से उसे आसानी हुई और मुझे में कुछ विश्वास भी पैदा हुआ था। पर मैंने तय किया की ऐसे बन्दे से मुझे बिलकुल पारदर्शिता से ही काम करना चाहिए।

मैंने राज से कहा, “राज, कल क्या होगा यह मैं नहीं जानता। पर जो भी हो, मैं तुमसे पूजा के बारे में कोई भी बात नहीं छुपाऊंगा। मेरे लिए मेरा तुमसे रिश्ता हमेशा सारे रिश्तों से ऊपर रहेगा।”

राज ने मेरा हाथ पकड़ा और कहा, “दोस्त, मुझे कोई भी शक नहीं की मेरी पूजा और मैंने एक सही दोस्त चुना है, जो हमारे सब राज़ अपने अंदर रखने में सक्षम है और जो हमारे संबंधों की इज्जत करता है। पर अब तुम मुझे बताओ की तुम यह नए प्रोजेक्ट के बारे में क्या कह रहे थे।”

मैंने राज को प्रोजेक्ट के बारे में सारी बात बतायी। मेरी बात सुनने पर राज ने कहा, “देखो दोस्त, पूजा ने इसके पहले कोई भी ऑडिशन नहीं किया है। मैं चाहता हूँ की उसकी ऑडिशन के पहले तुम उसकी एक “मॉक ऑडिशन “माने नकली ऑडिशन करोगे। ऐसा करने से तुम बताओगे की पूजा ने क्या क्या गलतियां की हैं और पूजा को गलतियों को सुधारने का मौक़ा मिलेगा ताकि वह अपनी ऑडिशन देते समय वह गलतियां ना करे। इससे उसके पहले ऑडिशन के सफल होने के चांस बढ़ जाएंगे।

उस रात राज ने अपनी बीबी पूजा को प्रोजेक्ट के बारे में मुझसे हुई सारी बातें बतायीं। पूजा सुनकर बड़ी खुश हुई की उसे एक ऐसे प्रोजेक्ट में काम करने का अवसर मिल रहा था जिसमें एक बड़ी अंतर्राष्ट्रीय गैर सरकारी संस्थान के प्रोजेक्ट में उसे काम करने का मौक़ा मिलेगा। राज ने अपनी पत्नी पूजा से कहा की असली ऑडिशन से पहले अनूप के साथ एक मॉक ऑडिशन वह रखवाना चाहता है ताकि जब असली ऑडिशन हो तो पूजा उसमें आसानी से पास हो सके।

पूजा को भी यह आईडिया अच्छा लगा और उसने हामी भर दी। पूजा ने राज से कहा, “पर डार्लिंग, जब मैं यह काम करने के लिए आगे जा रही हूँ तो मैं तुम्हें कुछ कहना चाहती हूँ।”

राज ने पूजा की और प्रश्नात्मक दृष्टि से देखा तो पूजा ने राज का हाथ थाम कर कहा, “देखो डार्लिंग, यह सच है की मैं यह असाइनमेंट लेना चाहती हूँ। पर मेरे लिए मेरा करियर मेरे परिवार से ज्यादा अहम नहीं है। जब मैं यह काम करुँगी तो गैर मर्द मेरे बदन को छुएंगे। कुछ गड़बड़ भी हो सकती है। इसलिए मैं यह काम चाहते हुए भी करना नहीं चाहती।” पूजा ऐसा कह कर करवट बदल कर सो गयी।

पढ़ते रहिएगा.. क्योकि यह कहानी आगे जारी रहेगी!

[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top