Nayi Dagar, Naye Humsafar – Episode 11

This story is part of a series:

सैंड्रा ने जोसफ के ऊपर चढ़ कर लंड तो काफी मुश्किल से अपनी चुत में ले लिया था पर मुझे डर था क्या वो मोटा लंड वापिस बाहर निकाल पायेगी।

सैंड्रा ने अपने दोनों हाथ जोसफ के पेट पर रखे और एक जोर की हुंकार भरी और अपना शरीर का जोर लगाते हुए ऊपर उठने लगी और उसके शरीर के ऊपर उठने के साथ ही जोसफ का गायब हो चूका लंड एक बार फिर बाहर आता दिखने लगा। मेरे लिए तो वो किसी जादू से कम नहीं था।

लंड लगभग पूरा बाहर आ चुका था और सैंड्रा की कराह भी जारी थी और उसी सांस में उसने फिर अपना शरीर नीचे करते हुए जोसफ का लंड अपनी चूत में छुपा दिया। अब वो बिना ज्यादा परेशानी के ऊपर नीचे हो पा रही थी, मगर उसकी कराह से पता चल रहा था कि दर्द तो हो रहा था।

मैंने वो जैल की डिब्बी को ढूंढना शुरू किया, ये सारा जादू शायद उसी का था। मगर मैं उस जैल का क्या करुँगी, मुझे कौनसा जोसफ जैसा लंड मिलने वाला था। मैंने फिर से उनकी चुदाई का मजा लेना शुरू किया।

सैंड्रा थोड़ी देर में जोसफ के ऊपर सीने से सीना मिला झुक गयी। उसके झुकते ही मुझे उसकी चूत साफ़ दिखाई देने लगी। इतना मोटा लंड अपने अंदर समाने के बाद उसकी छोटी सी चूत फटी पड़ी थी । जोसफ सैंड्रा की गांड अपने मोटे हाथों से सहला रहा था। शायद ऐसा करने से सैंड्रा का दर्द कम हो सके।

सैंड्रा अब आगे पीछे होने लगी और धीरे धीरे जोसफ का लंड दो तीन इंच उसकी चूत में अंदर बाहर होने लगा। सैंड्रा की चूत के पतले गुलाबी होंठ एक दम खींचे हुए थे। जोसफ ने अपना एक हाथ सैंड्रा की गांड से हटाते हुए ऊपर ले गया और सैंड्रा की ब्रा का हुक खोल कर ब्रा निकाल दिया।

अब सैंड्रा के शरीर पर सिर्फ उसके हाई हील सैंडल बचे थे। सैंड्रा अब इतना जोर नहीं लगा पा रही थी तो जोसफ ने उसकी पीठ को पकड़ा और खुद ही जोर लगा कर अपना लंड सैंड्रा की चूत में अंदर बाहर करने लगा। इससे उसका लंड अब पूरा अंदर बाहर हो सैंड्रा की चूत को रगड़ते हुए चोदने लगा।

ऐसा करने से सैंड्रा और जोर से आवाज निकाल आहें भरने लगी। ये सब देख मेरी तो पैंटी गीली होने लगी थी। जैक को तो कोई फरक ही नहीं पड़ा, उसके लिए तो ये शायद रोज का था।

जोसफ आराम से धीरे धीरे अपना लंड अंदर बाहर कर रहा था और कुछ मिनटों में ही सैंड्रा की चूत से निकला पानी जोसफ के लंड की जड़ो में आकर इकट्ठा होना शुरू हो गया। मेरे हाथ पैर कांपने लगे ये नजारा देख कर। एक मोटा काला लंड एक गौरी सी चूत को भेद रहा था और एक गौरे काले का संगम बड़ा मनोहारी लग रहा था।

थोड़ी देर में सैंड्रा ने जोसफ को रुकने को बोला और उस पर से उतर कर साइड में लेट गयी। जोसफ भी उठा और सैंड्रा को दूसरी दिशा में लेटाया जिससे वो मेरी खिड़की के समानांतर हो लेटी थी।

साइड से लेटे हुए सैंड्रा के बड़े बड़े मम्मे बड़े आकर्षक लग रहे थे। उसने संभवत प्लाटिक सर्जरी से बड़े करवाए होंगे। वो बहुत ही चिकने थे। वो शायद कभी माँ नहीं बनी थी इसलिए उसके निप्पल मेरी तरफ मोटे और लम्बे नहीं थे। उसके सफ़ेद झक मम्मो पर गुलाबी निप्पल एक केक पर रखे अनारदाने की तरह थे। जोसफ ने आगे बढ़ कर अपने काले मोटे होंठो में उस अनारदाने को भर लिया।

थोड़ी देर एक ही निप्पल से खेलता रहा। सैंड्रा ने जैक की तरफ देखा और उसको भी बुलाने लगी।

सैंड्रा : “स्वीटहार्ट, तुम अपने हिस्से की चूंचियाँ चुसोगे? ”

जैक ने मना कर दिया, और मुझे अच्छा लगा कि उसको मेरी कुदरती चूंचियाँ ज्यादा पसंद थी। जोसफ ने दूसरे मम्मे को मुँह नहीं लगाया। शायद सैंड्रा ने अपने दोनों सौतेले बेटो में अपना एक एक मम्मा बाँट दिया था।

जोसफ अपने भद्दे होठो में सैंड्रा के मोटे मम्मे को भर भर के चूस कर छोड़ रहा था। और सैंड्रा को मजे आ रहे थे। मुझे ऐसा अहसास हो रहा था जैसे वो सैंड्रा के नहीं मेरे मम्मे को चूस रहा था, क्यों कि अब तक मेरे मम्मे भी एक बार फिर फूल चुके थे। मुझे दबाव कम करने के लिए अपने शर्ट के दो तीन बटन खोलने पड़े।

जोसफ अब सैंड्रा के पैरो की तरफ आया और उसके पैर चौड़े कर बीच में घुटनो के बल बैठ गया। सैंड्रा की दोनों टाँगे मौड़ कर अपनी तरफ खिंचा और और अपना लंड एक बार फिर सैंड्रा की चूत में घुसाना शुरू किया, मुझे सैंड्रा की जांघो के बीच में आ जाने से ज्यादा कुछ दिखा तो नहीं पर सैंड्रा की कराहटों और जोसफ की गति से पता चल रहा था।

सैंड्रा और जोसफ के बीच की दुरी कम होती जा रही थी और सैंड्रा की चीखे बढ़ती जा रही थी। थोड़ी देर बाद जोसफ का हिलना और सैंड्रा की आहें दोनों बंद हो गयी। लगता था जोसफ ने अपना पूरा लंड सैंड्रा की चूत में उतार दिया था। मेरी इच्छा हुई मैं अंदर जाकर उस नज़ारे को अच्छे से देख पाऊ पर कर नहीं सकती थी।

जोसफ की गोल गांड अब आगे पीछे हिल रही थी, उसने झटके मारना शुरू कर दिया था। वो झटके धीमे थे और सैंड्रा की आहें भी उस अनुसार धीमी थी। थोड़ी देर बाद सैंड्रा खुद ही जोसफ को जोर से चोदने को बोलने लगी। मुझे लगा वो पागल हो गयी हैं, इतने दर्द के बावजूद वो ऐसा कैसे कर सकती हैं।

जोसफ की गांड अब और तीव्र गति से आगे पीछे जल्दी जल्दी धक्के मारने लगी और सैंड्रा की आहें भी जल्दी जल्दी और तेज आवाज में आने लगी। उसकी कराहट अब शुरुआत जैसी नहीं थी।

पहले दर्द ज्यादा झलक रहा था पर अब उसमे मजा लेने का अहसास ज्यादा था। मैं मन ही मन सैंड्रा की हिम्मत की तारीफ़ किये बिना नहीं रह पायी। क्या इस मोटे लंड से चुदाना इतना आसान नहीं था जितना सैंड्रा दिखा रही थी।

सैंड्रा की मादक आहों के साथ अब जोसफ की भी आवाजे आने लगी थी। वो आहें नहीं थी, वो तो जैसे गुर्रा रहा था। कमरा सैंड्रा की तेज आहों और जोसफ की गुर्राहट से गूंज सा गया और एक अलग ही माहौल बन चूका था। जैक ने कुछ क्षणों के लिए मेरी तरफ देखा और मुस्कुराया।

मेरी इच्छा हुई अभी जैक मेरे पास आ जाये, वो मुझे चोदे या नहीं पर मैं जरूर उसको चोद दूंगी । शायद उस वक़्त वहा कोई और मर्द भी होता तो मैं अपनी किसी से ना चुदवाने की कसम भुला कर तैयार हो जाती। शायद राहुल होता तो उसको भी मना नहीं कर पाती । मेरे चेहरे पर तो ऐसे भाव थे जैसे उस वक्त मैं खुद चुदवा रही हूँ।

अंदर से अब फच्चाक फच्चाक की आवाज आने लगी थी । क्या सैंड्रा को गर्भवती होने की भी चिंता नहीं थी। जरूर कुछ साधन लगाती होगी या शायद माँ बनने में सक्षम नहीं होगी तभी बिना डर के चुदवाती रही हैं। वरना अब तक तो काले बच्चो की फ़ौज खड़ी कर देती। मैं सोचने लगी इतने मोटे लंड से पानी कितना निकलता होगा। खैर वो तो थोड़ी देर में पता लग ही जायेगा।

मैं अपना एक हाथ अपने स्कर्ट के ऊपर से ही अपनी चूत पर रख दबाये हुई थी। मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था। अंदर से आवाजे बढ़ती जा रही थी। आहहह आह्ह ओ हनी , फक मी हार्ड , ओ ओ ओ

मुझसे अब बर्दाश्त नहीं हो रहा था। मैंने अपने स्कर्ट के नीचे से हाथ डालने की कोशिश की पर टाइट स्कर्ट को ज्यादा उठा नहीं पायी। मैंने वीडियो रिकॉर्ड कर रहे मोबाइल को नीचे रखा और अपनी स्कर्ट का हुक खोल दिया और उसे पांवो में नीचे गिरा दिया। अपना हाथ अपनी पैंटी में डाला और अपनी उंगलिया चूत की दरारों में रगड़ने लगी।

मुझे थोड़ी राहत मिली, चूत तो पहले ही गीली पड़ी थी और मेरी उंगलिया चिकनी हो आराम से फिसलने लगी। एक हाथ से मैं अपनी चूत रगड़ रही थी और दूसरे से अपना मुँह पकड़ बंद रखा था।

मैंने अपना काम जारी रखते हुए एक बार फिर खिड़की के कौने से अंदर देखना शुरू किया। जोसफ सैंड्रा के ऊपर पूरा लेट चूका था। नीचे सैंड्रा की सफ़ेद परत और उस पर चिपकी एक काली परत। जोसफ का भारी भरकम शरीर सैंड्रा को दबाये हुए बुरी तरह से चोद रहा था।

वो नजारा ऐसा था जैसे संगमरमर को एक काली मशीन घिस घिस कर चिकना बना रही थी। जोसफ बिस्तर का सहारा ले तेज झटके मार रहा था।

मैंने अपनी पैंटी को भी घुटनो के नीचे तक उतार दिया और पाँव चौड़े कर और तेज तेज अपनी उंगलिया अपनी चूत पर चलाने लगी। मुझे नहीं पता जैक ये सब कैसे सहन कर पा रहा था, उसकी इच्छा नहीं हो रही होगी !

जोसफ के तेज झटको से सैंड्रा जोर जोर से चीखते हुए झड़ने लगी और साथ ही जोसफ की गुर्राहट तेज हुई, शायद उसके झड़ने का ये ही तरीका था। उनकी आवाज सुन मेरी चूत ने भी अपना पानी छोड़ दिया। मैं अब खिड़की से हटी।

मेरी उंगलिया चिकने पानी से पूरी गन्दी हो चुकी थी। मैं दूसरे हाथ से पर्स में से नैपकिन निकाला और हाथ पोंछा और फिर अपनी चूत को भी पोंछ दिया। अंदर से उन लोगो की बातें करने की आवाजे आ रही थी। मैंने अपनी पैंटी और स्कर्ट को ऊपर खिंच कर शर्ट अंदर डाल फिर पहन लिया। फिर अपने शर्ट के खुले बटन को भी बंद कर दिया।

जोसफ: “हम वापिस ऑफिस जाने वाले हैं?”

सैंड्रा : “तुमसे चुदवाने के दो घंटे बाद तक मैं कभी कोई काम कर पायी हूँ ! मुझे रेस्ट चाहिए।”

मैं घबरा गयी, ये लोग नहीं गए तो मैं बाहर कैसे निकलूंगी।

जोसफ: “चलो डार्लिंग, साथ में नहा कर साफ़ तो हो जाये।”

मैंने खिड़की के कोने से फिर देखना शुरू किया। जोसफ बिस्तर के पास खड़ा था और सैंड्रा आराम से लेटी थी, दोनों अभी भी नंगे थे । जोसफ ने अपना हाथ आगे बढ़ाया और सैंड्रा को बिस्तर से उठा दिया और सहारा दे बाथरूम की ओर ले जाने लगा। उनकी पीठ मेरी तरफ थी।

जोसफ ने सैंड्रा के साथ चलते हुए उसकी गौरी छोटी सी गांड को दबा मजे लेता रहा जैसे किसी छोटे बच्चे के गाल दबाते हैं।

मुझे जोसफ किसी एक्शन मूवी के हीरो सा लग रहा था। मैंने सोचा क्या मुझे कभी उससे चुदवाने का सौभाग्य प्राप्त होगा। मेरा उसके मोटे लंड से डर थोड़ा बहुत निकल चूका था। उस दर्द से कही ज्यादा उसके लंड से मिलने वाला मजा होगा। बस वो जैल मिल जाये।

उन दोनों के बाथरूम में जाते ही जैक खिड़की में आया और मुझे अंदर आने को कहा। उसने पीछे का दरवाजा खोला और मुझे अंदर लिया आगे के दरवाजे से मुझे मैन गेट तक ले आया।

हम दोनों का काम आज भी नहीं हो पाया था, हालांकि मेरा काम मैंने खुद ही कर दिया था। शायद जैक और मैं करते तो भी इतना मजा नहीं आता जितना जोसफ और सैंड्रा को करते हुए देखा था।

जैक ने कहा वो मौका देख कर कल मुझे फ़ोन करेगा और हम मिलेंगे। मैं जैक से विदा ले वहा से सीधा ऑफिस चली गयी, अब छुट्टी मारने का क्या फायदा।

राहुल को भी आश्चर्य हुआ मैं वापिस कैसे आ गयी। मैंने उसको सारी बात बतायी कि मैंने भी वीडियो बना लिया हैं। अब जोसफ और सैंड्रा हमें डरा नहीं पाएंगे ।

राहुल: “अब हम बिज़नेस छोड़ लोगो को ब्लैकमेल करेंगे क्या?”

मैं: “इसमें क्या गलत हैं, वो भी तो यही कर रहे हैं। ”

राहुल: “ठीक हैं, मौका आने पर देखते हैं। तुम ठीक तो हो ना।”

उसका मतलब मैं समझ गयी थी, मेरे चेहरे पर चुदने के बाद की लाली थी।

मैं: “मेरे और जैक के बीच में ऐसा कुछ नहीं हुआ हैं। ”

हम दोनों आगे क्या होने वाला था उसकी तैयारी करने लगे।

[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top