Nayi Dagar, Naye Humsafar – Episode 10

This story is part of a series:

मैंने और जैक ने अभी मजा लेना शुरू ही किया था कि बाहर का गेट बजा। कही जोसफ तो नहीं आ गया था । जैक ने मुझे तुरंत छुपने को कहा और बैडरूम की खिड़की से मुझे बाहर कर दिया। उसने मुझे मेरा पर्स और नीचे पड़ा शर्ट मेरे हाथों में थमा दिया।

जैक: “तुम यही छुपी रहना। मैं तुम्हे मौका देख कर बाद में बाहर निकाल दूंगा।”

मैं दीवार की ओट में आ गयी और बिना आवाज किए अपने खुले ब्रा का हुक फिर बंद कर लिया और शर्ट को फिर से पहनने लगी। वहा आठ दस फ़ीट की खुली जगह थी और उसके आगे एक ऊँची बॉउंड्री वाल थी। मैं वहा से भाग भी नहीं सकती थी। मैं वही खड़ी हो सुनने लगी।
जोसफ और सैंड्रा बैडरूम में आ गए थे।

जैक: “आप दोनों इस वक्त यहाँ कैसे, सब कुछ ठीक तो हैं?”

सैंड्रा : “कुछ नहीं स्वीटहार्ट, एक हफ्ते से जोसफ का लंड अपनी चूत में नहीं लिया था तो बहुत कमी खल रही थी। ”

मतलब मेरा शक ठीक था, जोसफ सैंड्रा को चोदता ही रहता हैं और वो भी जैक के सामने। जैक खुद तो अपनी सौतेली माँ को चोदता ही हैं उसने बताया था।

मेरे मन में एक उत्सुकता थी ये जानने की कि जोसफ का लण्ड कितना बड़ा होगा और सैंड्रा जैसी नाजुक औरत उसको कैसे सहन कर पायेगी।

मैंने छुपते हुए खिड़की से देखने का प्रयास किया। जैक बैठा हुआ था और जोसफ और सैंड्रा एक दूसरे की बाँहों में थे। जोसफ ने अपना सूट पहले ही खोल दिया था और उसने शर्ट पैंट और टाई पहनी थी।

सैंड्रा ने एक बॉडीकॉन ड्रेस पहनी थी जो उसकी आधी जांघो तक आ रही थी। वो एक अप्सरा की तरह लग रही थी। उसके पतले बदन से चिपकी ड्रेस बहुत सेक्सी लग रही थी और उसके गांड और सीने के उभार अच्छे से खिल रहे थे।

जोसफ ने अपने मोटे बड़े बड़े फुले हुए होंठो से सैंड्रा के पतले होंठो को पकड़ कर चूमना शुरू कर दिया था। ऐसा लग रहा था एक हाथी एक हिरणी का शिकार करने वाला हैं। थोड़े दिन पहले शायद वो शिकार हिरणी मैं हो सकती थी।

सैंड्रा भी बराबर जोसफ के होंठो को चूस बराबर मजे लेने की कोशिश कर रही थी। गहरे काले और गुलाबी होंठो का संगम एक अलग ही अजीब सा अहसास करा रहा था। जोसफ अपने बड़े बड़े हाथ सैंड्रा की छोटी सी गांड पर रख फिरा रहा था।

जोसफ कुछ दिन पहले मुझे डरा रहा था, मैंने सोचा आज मैं इसका सैंड्रा के साथ वीडियो बना इसको डरा सकती हूँ। मैंने अपना मोबाइल निकाल खिड़की के कोने से वीडियो बनाना शुरू किया।

थोड़ी देर में चूमते चूमते ही जोसफ ने एक हाथ सैंड्रा की पीठ पर ले जाकर उसकी ड्रेस की चैन नीचे खिंच खोल दी। फिर चूमना छोड़ दोनों हाथों से उसकी ड्रेस कंधो से उतार दी। सैंड्रा ने उसके बाद खुद ही अपनी ड्रेस नीचे खिसकाते हुए अपने पैरो से निकाल दी। वो अब सिर्फ एक ब्रा और पैंटी में खड़ी थी।

जोसफ ने एक बार फिर सैंड्रा को अपने से चिपका कर चूमना शुरू कर दिया। सैंड्रा के मम्मे जोसफ के सीने से पिचक से गए थे। जोसफ एक बार फिर सैंड्रा की गांड को पकड़ दबा रहा था। फिर उसने अपना हाथ उसकी पैंटी के पीछे अंदर डाल उसकी गांड मसलने लगा।

जोसफ चूमना छोड़ थोड़ा पीछे हटा तो सैंड्रा ने जोसफ के शर्ट के बटन खोल उसका शर्ट पूरा निकाल दिया और फिर उसका बनियान भी निकाल उसको ऊपर से नंगा कर दिया। सैंड्रा अब नीचे पंजो के बल बैठी और जोसफ की पैंट की बेल्ट ढीली कर उसने उसके पैंट का हुक खोला और चैन नीचे खिसका कर उसका पैंट पांवो से पूरा निकल दिया।

जोसफ अब सिर्फ बॉक्सर में खड़ा था। उपर से उसकी पहलवाननुमा कसरती बदन देख सैंड्रा उसके सीने और दूसरी मसल्स को चूमने लगी।

सैंड्रा अब जोसफ को ले बिस्तर पर आ गयी। सैंड्रा बिस्तर पर लेट गयी और जोसफ उसके बदन को चूमने लगा, उसके सीने, पेट और जांघो को चूमता ही रहा और सैंड्रा को उत्तेजित करता रहा।

उसने सैंड्रा की पैंटी को पकड़ कर नीचे खिंच निकाल दिया। उसकी टाँगे खिड़की की तरफ ही थी तो उसके पैर चौड़े करते ही उसकी गुलाबी चिकनी चूत दिखने लगी। उसने अपने घुटने मौडे तो उसकी चूत का छेद एक इंच गोलाई में गुफा की तरह खुला था। शायद जोसफ ने अपने मोटे लंड से चोद चोद कर उसका छेद हमेशा के लिए बड़ा कर दिया था।

बेचारा जैक, इसको इस बड़े छेद में चोदने से क्या मजा आता होगा, इसलिए शायद उसको मुझसे बड़ी उम्मीद हैं। जोसफ ने अपने काले राक्षसी हाथ की उंगलियों से सैंड्रा की चूत को रगड़ना शुरू किया। फिर जोसफ ने सैंड्रा के दोनों पांवो के बीच अपना सर किया और उसकी चूत को चाटना शुरू किया।

मुझे कुछ दिखाई नहीं दिया क्यों कि खिड़की और सैंड्रा के बीच जोसफ का गंजा सर था। पर सैंड्रा की आती सिसकियों से पता चल रहा था कि सैंड्रा को मजे आ रहे थे ।

सैंड्रा की चूत को कुछ देर तक चाटते हुए मजे दिलाने के बाद जोसफ उठा। मैंने देखा सैंड्रा की चूत खुल कर पूरी गीली हो चुकी थी। वो अब उठने के लिए पलटी और थोड़ी देर घोड़ी की तरह बैठी। मैंने उसकी गांड का छेद देखा वो इतना खुला हुआ नहीं था। शायद आज तक जोसफ को उसने गांड नहीं मारने दी थी।

ये भी हो सकता हैं कि चूत का छेद जोसफ के लिए और गांड का छेद जैक के लिए रिजर्व्ड हो। वैसे भी जोसफ को गांड मारने देना मतलब अपनी मौत को दावत देना होगा। हालाँकि मैंने उसका लंड अभी तक देखा नहीं था। मैं उसी चीज का इंतजार कर रही थी।

जोसफ बिस्तर पर खड़ा हो गया और सैंड्रा उसके सामने घुटनो के बल बैठ गयी। उसने उसके बॉक्सर के ऊपर से ही उसके लंड को पकड़ लिया और थोड़ा हिला दिया। सैंड्रा के दोनों हाथ अब जोसफ की बॉक्सर की पट्टी पर थे। पर्दा गिरने वाला था और एक पहलवान के लंड के दर्शन खुलने वाले थे।

सैंड्रा ने जोसफ का बॉक्सर नीचे खींचना शुरू किया। मैंने देखा जोसफ का काला मोटा छह इंच लंबा लंड लटका हुआ था। ऐसा मोटा लंड तो चिड़ियाघर में एक गेंडे का देखा था।

मैंने उस दिन जो पहली ककड़ी अपनी चूत में डाली थी शायद उसके जितना मोटा लंड था जोसफ का। मैंने सोचा मैं उस दिन फ़ालतू में जोसफ से डर रही थी, ये वाला लंड तो मैं आसानी से ले सकती थी।

सैंड्रा ने जोसफ का बॉक्सर पूरा निकाल दिया और उसका काला लंड अपनी गौरे हाथ में पकड़ नीचे की तरफ खिंचा। फिर उसके लंड की चमड़ी ऊपर की तरफ खींची। अब वो ऐसे ही ऊपर नीचे उसके लंड को रगड़ने लगी जैसे गाय का दूध निकाल रही हो। सैंड्रा उसके लंड से बातें करे जा रही थी।

सैंड्रा: “ओह बेबी, तुम सो रहे हो, जग जाओ, तुम्हारी सहेली तुम्हारा इंतजार कर रही हैं, तुमने उसे मिस किया ना? ”

जोसफ: “हां, एक हफ्ते तक इसने बहुत मिस किया । ”

मुझे उनकी बातें सुन थोड़ी शर्म आयी, धीरे धीरे जोसफ का लंड लंबा और मोटा होने लगा। सैंड्रा जो जगने की बात कर रही थी वो जोसफ के लंड को जगाने की थी और उसके लंड को वो बेबी बोल रही थी। इसका मतलब उस बेबी की सहेली सैंड्रा की चूत थी।

मैंने देखा जोसफ का लंड उस दिन दूसरी बड़ी ककड़ी की मोटाई जितना हो गया था। उस दूसरी ककड़ी को अपनी चूत में ड़ालते वक्त मुझे उस दिन तकलीफ तो बहुत हुई थी। मैं जोसफ के लंड की मोटाई देख अब डरने लगी थी। सैंड्रा को आज मुश्किल होने वाली थी।

हालांकि उसका छेद मैंने देखा था मेरी चूत के मुकाबले ज्यादा ही खुला था पर जोसफ के लंड की मोटाई तो उस छेद के मुकाबले ज्यादा ही थी।

जोसफ के काले लंड पर सैंड्रा की गौरी उंगलिया एक अलग ही दृश्य पैदा कर रही थी। उसने अब उसका लंड अपने मुँह को चौड़ा करते हुए मुँह के अंदर धकेल दिया। सैंड्रा का मुँह जोसफ के लंड से पूरा भर गया और वो अब उसके लंड को अंदर बाहर कर रही थी।

जोसफ: “कम ऑन डार्लिंग, मजा आ रहा हैं, अच्छे से चुसो। आह ह हां ऐसे , वाह। ”

जैक चुपचाप बैठा उनकी हरकते देख रहा था। थोड़ी देर तक और चूसते रहने के बाद सैंड्रा ने जोसफ का लंड अपने मुँह से बाहर निकाला। उसका लंड सफ़ेद गाड़े चिकने पानी से लिपट गया था और उससे लारे छूटने लगी थी। पर मेरे लिए गौर देने वाली बात थी कि बाहर आने पर लंड और भी फूल गया था और लंबा हो गया था।

जोसफ का लंड किसी घोड़े के लंड की तरह दिखाई दे रहा था। उसकी लंबाई घोड़े से एक दो इंच कम होगी पर मोटाई उतनी ही या फिर थोड़ी ज्यादा ही थी। मुझे उस तीसरी ककड़ी की याद गयी। ये बिलकुल वैसा ही मोटा था। मैंने शुक्र मनाया कि उस दिन होटल रूम में जोसफ ने मेरे साथ कुछ नहीं किया वरना मेरा क्या होता, मेरी तो चूत ही फाड़ डालता।

उस दिन वो मोटी ककड़ी मेरी चूत में तीन इंच से ज्यादा नहीं जा पायी थी। मुझे सैंड्रा की चिंता होने लगी। क्या उसने पहले कभी जोसफ का सचमुच लिया होगा। मुझे यकीन नहीं हो पा रहा था। मैं बेसब्र हुए जा रही थी वो नजारा देखने के लिए।

जोसफ अब नीचे लेट गया, जोसफ की खुली टांगो के बीच में उसकी मोटी अंटिया और उसके ऊपर उगा हुआ उसका विशालकाय काला लंड एक डरावना मंजर था।

सैंड्रा बिस्तर से उतर कर कुछ ले लायी। उसके हाथ में एक डिब्बी थी जिसमे से उसने कुछ अपने हाथ में भरा। ये कोई जैल था जो उसने जोसफ के लंड पर अच्छे से लपेट दिया। उसका लंड उस जैल में लिपट कर और चमकने लगा। लुब्रीकेंट तो मैंने भी उस दिन ककड़ी पर लगाया था पर कोई फायदा नहीं हुआ था।

सैंड्रा अब जोसफ के लंड पर दोनों तरफ पाँव कर घुटनो के बल खड़ी हो गयी। उसकी पतली कमर और छोटी सी गांड के दोनों उभार दिख बहुत सेक्सी लग रही थी। उसकी चूत जोसफ के लंड से सात आठ इंच दूर थी।

जोसफ का लंड उसके पेट की तरफ झुक कर खड़ा था। सैंड्रा ने उसका लंड पकड़ा और सीधा खड़ा कर दिया। जोसफ का लंड सैंड्रा की चूत के एकदम पास था।

इतना चौड़ा लंड और सैंड्रा की गांड के बीच की छोटी सी दरार के बीच से नीचे की ओर दिखती उसकी छोटी पतली सी चूत, लंड का अंदर जाना नामुमकिन सा लग रहा था।

सैंड्रा ने लंड की टोपी अपनी चूत के छेद के पास लाकर अपना शरीर थोड़ा नीचे किया। अब जोसफ का लंड बिना पकड़े ही सैंड्रा की चूत से अटक कर सीधा कुतुबमीनार की तरह खड़ा था।

सैंड्रा अब धीरे धीरे नीचे होती जा रही थी और जोसफ का लंड उसकी चूत में घुसना शुरू हो गया था। लंड की टोपी सैंड्रा की चूत में घुस गयी थी और अब लंड का मोटाई वाला भाग धीरे धीरे अंदर जाने लगा और सैंड्रा के मुँह से कराहट निकलनी शुरू हो गयी। मुझे अपनी आँखों के ऊपर विश्वास नहीं हो रहा था। मेरी ककड़ी तो अटक अटक कर जा रही थी।

जैसा मैंने सोचा था तीन इंच अंदर जाने के बाद सैंड्रा कराहते हुए रुक गयी। जोसफ ने सैंड्रा का हौंसला बढ़ाया और अंदर घुसाते रहने को कहा।

जोसफ: “कम ऑन डार्लिंग, पुश इट फरदर। ”

सैंड्रा अब और जोर से चीखी और ऐसी आवाज निकलने लगी जैसे कोई बाहर भारी सामान उठा रही हो। आईईईई करते हुए वो नीचे बैठती रही और फिर धीरे धीरे जोसफ का लंड सैंड्रा की चूत में उतरता रहा। मुझे अपनी आँखों पर यकीन नहीं हो रहा था और जल्द ही लंड का लगभग छह इंच हिस्सा सैंड्रा की चूत में गायब हो चूका था।

जरूर वो जैल उच्च श्रेणी का रहा होगा जो इतना मोटा लंड अंदर फिसलता हुआ जा रहा था। इतने मोटे लंड के अंदर जाने से नीचे से सैंड्रा की गांड के दोनों उभार फट कर एक दूसरे से दूर हो गए थे।

सैंड्रा की चूत अब जोसफ के लंड की जड़ो तक आ गयी, उसने उसको अपने में पूरा उतार लिया था। सैंड्रा ने एक चैन की सांस ली और ख़ुशी मनाई।

मैंने सोचा असली परीक्षा तो अब होने वाली थी। जिस तरह ककड़ी मेरी चूत में फंस गयी थी वैसे जोसफ का लंड भी सैंड्रा की चूत में अटक जायेगा। ऐसे में जैक को सहायता करनी पड़ेगी। जरुरत पड़ी तो मैं भी कमरे में जाकर सैंड्रा को खीचूँगी और लंड बाहर निकालने में मदद कर दूंगी।

यह चुदाई आगे जारी रहेगी।

[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top