मैं अपने नन्दोई से चूद गयी-3

This story is part of the Main apne nandoi se chud gayi series

    जीजू की दमदार चूदाई के बाद हम दोनों बहनों की चूत सूज कर लाल हो गई और हमारी चूत का सूराख भी लगभग एक इंच खूल गया।

    जीजू से चूदने के बाद मैंने शालू दीदी से कहा दीदी जीजू ने हमें चोद कर हमारी चूत अपने गर्मा गर्म वीर्य से भर दी और अगर जीजू का वीर्य हमारी चूत में बच्चेदानी में रह गया और हम शादी से पहले ही मां बन गई तो क्या होगा।

    शालू दीदी ने कहा निशा तुने तो अपने जीजू के बच्चों की मां बनना ही है और रही बात काजल की तो उसे तेरे जीजू गर्भ न रहने की दवा देकर चूदाई करेंगे।

    दीदी से इतनी बातें करने के बाद जब मैंने अपनी और काजल की सूजी और फटी हुई चूत देखी तो दीदी से कहा।

    दीदी कल रात आपके भईया मेरी चूत देखना चाहते थे पर मुझे क्या पता था कि आप आज ही मेरी चूत जीजू के लंड से फडवा देंगी और आज रात को जब वो मेरी फटी और सूजी हुई चूत देख कर पुछेंगे तो मैं क्या जवाब दूंगी और अपने कपडे पहनने लगी।

    जीजू ने मुझे कपडे पहनने से रोकते हुए मेरे चूचे खींच कर कहा निशा तू चिंता मत कर सोनू तेरी चूत नहीं देखेगा।

    मैंने कहा जीजू वो कैसे।

    जीजू ने कहा निशा अब तुम दोनों बहनें जब तक यहां हो तब तक नंगी रहोगी और रही बात सोनू की तेरी चूत देखने की तो वो तेरी और मेरी सास खुद सम्भाल लेगी।

    पर तू अपनी सास से कभी मत कहना कि मैंने तेरी और काजल की चूदाई शालू और साक्षी के सामने की है और शालू के साथ साथ साक्षी भी मेरी पत्नी है।

    उसके बाद जीजू किसी काम से बाजार चले गए और मैंने शालू दीदी से पुछा दीदी ये मम्मी जी और साक्षी दीदी और जीजू के पति पत्नी वाला क्या माजरा है।

    शालू दीदी ने कहा निशा ये तो तू साक्षी से पुछ पर तेरी सास मेरी शादी से पहले ही तेरे जीजू की रंडी है।

    मैंने साक्षी दीदी से कहा दीदी बताओ न ये सब कब और कैसे हुआ।

    साक्षी दीदी लम्बी सांस लेकर बोली निशा तुझे तो पता ही है कि हमारे मम्मी पापा हमें बहुत पहले जब मैं सिर्फ पांच साल की थी छोड कर चले गए थे और मुझे भईया ने बहुत प्यार से पाला पोसा है और मैं बचपन से ही टोनी भईया के साथ लिपट कर सोती थी और भईया ने अपनी मेहनत से बहुत बडा बिजनेस खडा किया है और जब हभ अपने इस घर में आए तब भईया ने एक कमरा सिर्फ और सिर्फ हमारे लिए रखा है यहां सिर्फ मै और भईया ही उस कमरे में जा सकते हैं और अब उस कमरे में शालू भी जा सकती है।

    मैं जब 10वीं में पढ रही थी तब एक दिन रात को जब मेरी अचानक से नींद खूली तो टोनी भईया मेरे पास नहीं थे और मैंने सोचा कि शायद भईया बाथरूम में पेशाब करने गए होंगे और जब काफी देर तक टोनी भईया कमरे में नहीं आए और मैंने उठ कर बाथरूम में देखा तो भईया वहां भी नहीं थे।

    मैं बुरी तरह से डर गई और कमरे से बाहर आकर भईया को घर में इधर-उधर देखने लगी।

    तभी मुझे इस कमरे से कुछ आवाजें सुनाई पडी और मुझे लगा कि इस कमरे में भईया के साथ कोई औरत और मर्द भी है और उस औरत की आवाज कुछ ज्यादा ही आ रही थी जैसे उसे कोई जोर जोर से पीट रहा हो।

    मैं डरते हुए इस कमरे के अंदर झांकने लगी और कमरे के अंदर का नजारा देख कर मेरे पांव तले से जमीन खिसक गई।

    कमरे के अंदर भईया के साथ शालू की मौसी करिशना की दोनों बेटियां रानी और काको के साथ साथ उनका भाई विजय और टोनी भईया सभी नंगे थे और रानी भईया का लंड चूस रही थी और विजय काको की चूत चाट रहा था और रानी टोनी भईया का लंड चूसते हुए बोल रही थी उउउऊऊऊ मेरे राजा जब से मुझे पता चला है कि मैं तेरे बच्चे की मां बनने वाली हूं तब से मेरी जीभ और चूत दोनों तेरे लंड को चूसने और चूदने को तरप रही है।

    टोनी भईया रानी के चूचे खींच कर बोले साली रंडी तो जब तुझे पता चला तभी क्यों नहीं बताया और अब रात को आ गई चूदने।

    रानी ने काको की चूत चाटते हुए विजय की गांड पर लात मार कर कहा ये साले हिजडे बहन चोद ने बताया ही अब है और फिर से भईया का लंड चूसने लगी।

    विजय काको की चूत चूत चाटना छोड कर बोला उउउऊऊऊ दीदी ऐसे कयों मार रही हो और तूने मुझे जब मैं तेरा मूत पी रहा था तब कहा था कि मुझे इसबार महीना नहीं आया और मैं तभी बाजार से गर्भ चैक करने वाली किट ले आया और तेरे सामने ही तेरा मूत चैक किया और तुझे तभी बता दिया था कि तेरी चूत में टोनी का बच्चा रह गया है और तब तक रात के 9 बज चूके थे।

    रानी बोली मेरे राजा मेरी शादी में अभी तीन ही तो दिन रह गए हैं और कल तेरे लिए साली रंडी करिशना दो नई चूत का इंतजाम कर रही है और वो कल तेरे लंड से चूत का भोसडा बनने वाली चूत की सफाई कर रही है और अब ये साला बहन चोद हिजडा जाकर उनकी चूत चाटकर साली रंडीयो की चूत में आग लगाएगा और तेरा लंड नई चूत का खून पीकर तो बहुत मस्त हो जाता है और नई चूत को ही चोदता है मेरा नंबर कब आता पता नहीं और अब रात भर तू मेरी चूत चोद चोद कर मेरी चूत की एक हफ्ते की आग को शांत कर दे।

    तभी काको भईया का लंड अपने मुंह में लेकर बोली मेरे राजा इस साली रंडी छिनाल के मां बनने के चक्कर में मेरी चूत एक महीने से प्यासी है और अब पहले अपना मुसल लंड मेरी चूत में डाल कर अपने गर्म गर्म वीर्य से मेरी चूत भर दे और भईया के लंड पर अपनी चूत रख कर नाचने लगी और जब भईया झडने को हुए तो अपनी टांगे खोल कर चित लेट गई और भईया का वीर्य अपनी चूत में लिया।

    उसके बाद भईया ने रानी और काको दोनों को चोदा और अपना वीर्य दोनों बहनों को पिलाया और सुबह करीब चार बजे भईया का मूत पीकर नंगी ही अपने घर चलीं गई।

    रानी और काको की चूत एकदम चिकनी थी और दोनों की चूत का सूराख भी लगभग तीन इंच खुला हुआ था और भईया का लंड भी बहुत लम्बा और मोटा लग रहा था।

    रानी और काको के जाने के बाद मैं आकर अपने बिस्तर पर सो गइ और सोचने लगी कि भईया का लंड तो बहुत बडा है और रानी के भाई विजय का लंड तो बिल्कुल किसी छोटे बच्चे की लूल्ली जैसा है।

    अगले दिन जब मैं स्कूल से आ रही थी तब मुझे मेरी एक सहेली ने बताया कि वो अपने भाई से चूदती है और घर में चूदने से न तो बदनामी का डर रहता है और जब दिल किया तभी चुदाई भी हो जाती है।

    मैंने उससे उसके भाई के लंड के साइज के बारे में पुछा तो उसने कहा कि उसके भाई का लंड करीब आठ इंच लम्बा है और वो जब उसे चोदता है तो उसकी चूत दो से तीन बार झड जाती है और उसका भाई उसे गर्भ न रहने की दवा खिला कर उसकी चुदाई करता है।

    घर आकर मैं भी भईया के बारे में सोचने लगी कि भईया रानी और काको की तरह अगर मेरी भी चुदाई करने लगे तो बहुत मजा आएगा।

    अब मैं तो बस भईया से चूदने की प्लानिंग करने लगी और किसी न किसी बहाने भईया को अपना मस्त जिस्म दिखाने की कोशिश करने लगी पर भईया पर मेरी इन हरकतों का कोई असर नहीं हुआ।

    एक छुट्टी वाले दिन जब भईया घर पर ही थे और मुझे पता था कि भईया आज रानी के घर रानी के साथ साथ उसके मामा की बेटी को चोदने वाले हैं।

    जब भईया जाने लगे तो मैंने भईया से कहा भईया आप बाजार जा रहे हो और वहां से मेरे लिए कुछ सामान लेते आना और एक कागज भईया को दे दिया।

    शाम को जब भईया घर आए और मैंने भईया को सामान के बारे में पुछा तो भईया ने कहा साक्षी तूने जो सामान मुझसे मंगवाया था वो मैं कैसे लेकर आता।

    मैने कहा भईया क्यों आप वो सामान क्यों नहीं ला सकते।

    भईया ने कहा साक्षी अब तू बडी हो गई है और वो सब सामान तू खुद लाया कर।

    मैंने कहा भईया ऐसा क्या है उसमें जो आप नहीं ला सकते।

    भईया ने कहा साक्षी एक तो वो लडकियों का सामान है औरदूसरा मुझे तेरा साइज भी नहीं पता मैं ले आता और तुझे फिट न बैठता तो क्या पता।

    मैंने कहा भईया साइज तो मुझे भी नहीं पता अब कैसे पता चलेगा कि मुझे कौनसा साइज फिट बैठेगा।

    भईया ने कहा साक्षी अब क्या होगा।

    मैंने कहा भईया आप देख कर बता सकते हो कि मेरे किस साइज का ब्रा कच्छी फिट आएगा।

    भईया मेरी बात सुनकर झेंप गए और कहने लगे अरी पगली मैं तेरा भाई हूं पति नहीं।

    मैंने कहा भईया तो जब आप अपने दोस्त विजय की दोनों बहनों को नंगा देख और उनके साथ गंदा काम कर सकते हो तो मुझे क्यों नहीं।

    अब तो भईया बुरी तरह से फंस गए और बात को घुमाने लगे मैंने कहा भईया वो रानी की शादी से तीन दिन पहले जब रानी उसकी बहन काको और आप और विजय सभी नंगे अपने कमरे में गंदा काम कर रहे थे तब रानी बोल रही थी कि वो आपके बच्चे की मां बनने वाली है तो क्या आपने और रानी ने शादी कर ली है।

    भईया मेरी बात सुनकर चुप हो गए और मुझे नींद आ रही है बोल कर बिना खाना खाए ही सोने लगे।

    मैं भी अपने काम खत्म करके भईया के पास जाकर सो गई और रात को जब मुझे यकीन हो गया कि भईया सो गए हैं तब मैंने जान बूझ कर अपना हाथ शार्ट के उपर से भईया के लंड पर रख दिया।

    तब भईया का लंड एकदम से मुरझाया हुआ था और मेरे हाथ लगते ही भईया का लंड फूलने लगा।

    मुझे यकीन हो गया कि भईया सोए नहीं सोने का नाटक कर रहे हैं और भईया की चुप्पी से मेरा हौंसला बढ गया और मैंने अपना हाथ भईया के शार्ट के अंदर डाल कर भईया का लंड पकड लिया।

    भईया ने मेरा हाथ अपने लंड से हटा कर कहा साक्षी ये क्या कर रही हो।

    मैंने कहा भईया मैने जो करना है मैं वो करके रहूंगी और खुद अपनी कमीज उतार कर भईया को अपने नंगे चूचे दिखा कर बोली भईया अब नाप कर देखो मेरे चूचों का क्या साइज है और भईया का हाथ पकड़ कर अपने चूचों पर रख लिया।

    भईया के हाथ में मेरे नर्म मुलायम गोल गोल चूचे आते ही भईया भी शर्म छोड कर मेरे चूचों को मसल कर बोले उउउऊऊऊ साक्षी मेरी प्यारी बहना तू तो बहुत खूबसूरत है।

    मैंने भईया को चूम कर कहा भईया क्या आप ये चाहते हैं कि आपकी प्यारी खूबसूरत बहन को कोई और चोद कर मजा ले जब उसके पास घर में ही इतना मस्त लंड है।

    भईया मेरे मुंह से चुदाई की बातें सुनकर हैरान होते हुए बोले उउउऊऊऊ साक्षी मेरी प्यारी बहना मैं तो समझता था कि मेरी बहन अभी बच्ची है पर ये तो बहुत बडी बडी बातें करने लगी है और भईया ने मुझे अपनी बाहों में भर कर भींच लिया और मेरी गाल पर एक लम्बा चूमा लिया।

    मैंने खींच कर भईया का शार्ट उतार दिया और भईया का मस्त लंबा और मोटा लंड उछलकर मेरे सामने आ गया और मैंने भईया के लंड को चूम लिया।

    भईया ने भी मेरी सलवार उतार दी और मेरी चूत पर काले घने बालों का जंगल देख कर बोले साक्षी क्या तू ब्रा कच्छी नहीं पहनती और देख तेरी चूत पर कितने बडे बडे बाल हैं तू इतनी खूबसूरत चूत की सफाई नहीं करती।

    मैंने कहा भईया मैने आपसे अपने लिए ब्रा कच्छी मंगवाई तो थी कि मेरे प्यारे भईया अपनी पसंद की ब्रा कच्छी अपनी प्यारी ओर खूबसूरत बहन को पहना कर अपने मस्त गधे जैसे लंड से अपनी बहन की प्यार से चुदाई करेंगे और फिर से भईया का लंड चूम लिया।

    भईया ने मुझे चूमते हूए कहा मेरी प्यारी बहना के लिए कल सबसे पहले मैं अपनी पसंद का ब्रा कच्छी लाऊंगा और फिर अपनी खूबसूरत बहन की खूबसूरत चूत की सफाई करके अपने लंड से अपनी खूबसूरत बहन को चोद कर तुम्हें लडकी से औरत बनाऊंगा और मैं और भईया दोनों नंगे ही एक दूसरे से लिपट कर सो गए।

    पढ़ते रहिये, कहानी आगे जारी रहेगी!

    shallubansal82@gmail.com